एक्जिट पोल: 5 राज्यों में जानें किसकी बनेगी सरकार? पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर; क्या कहते हैं तमाम एग्जिट पोल्स के आंकड़ें

0

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के तहत आठवें और आखिरी चरण का मतदान गुरुवार (29 अप्रैल) को संपन्न होने के बाद विभन्न न्यूज चैनलों व एजेंसियों द्वारा गुरुवार को जारी किए गए एक्जिट पोल के नतीजों में पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर का पूर्वानुमान जताया गया है जबकि केरल में सत्तारूढ़ वाम मोर्चे और असम में भाजपा के फिर से सत्ता में लौटने का अनुमान व्यक्त किया गया है। अब सबको 2 मई को आने वाले नतीजों का इंतजार है।

एक्जिट पोल

गौरतलब है कि, पश्चिम बंगाल में 8वें और आखिरी चरण के साथ ही 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव एक तरह से संपन्न हो चुके हैं। अब सबको 2 मई को आने वाले नतीजों का इंतजार है। हालांकि, एक्जिट पोल के अनुमानों के मुताबिक, तमिलनाडु में ऑल इंडिया अन्नाद्रमुक मुनेत्र कषगम (अन्नाद्रमुक) सत्ता से बाहर जा सकती है और एक दशक के बाद द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) वहां की सत्ता में वापसी कर सकती है। कुछ चुनावी सर्वेक्षणों के मुताबिक पुडुचेरी में कांग्रेस के हाथ से सत्ता से जा सकती है।

चैनलों व एजेंसियों का बंगाल को लेकर अलग-अलग अनुमान सामने आया है। हालांकि, अधिकांश पूर्वानुमानों में राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर दिखाई दे रही है। जबकि केरल में सत्तारूढ़ वाम मोर्चे और असम में भाजपा के फिर से सत्ता में लौटने का अनुमान व्यक्त किया गया है।

इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया ने भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच बहुत ही कांटे की टक्कर का अनुमान लगाया है। उसके मुताबिक भाजपा को 134 से 160 सीटें मिल सकती हैं जबकि तृणमूल कांग्रेस को 130 से 156 सीटें मिलने की संभावना जताई गई है।

रिपब्लिक-सीएनएक्स के सर्वेक्षण में भाजपा को तृणमूल कांग्रेस पर थोड़ी बढ़त दिखायी गई है। उसके मुताबिक राज्य की 294 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा को 138 से 148 सीटें मिल सकती है जबकि तृणमूल कांग्रेस 128 से 138 सीटों के बीच सिमट सकती है।

हालांकि, टाइम्स नाउ-सी वोटर के सर्वेक्षण में तृणमूल कांग्रेस को 162 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है जबकि भाजपा को 115 सीटें मिल सकती हैं।

जन की बात ने अपने सर्वेक्षण में पश्चिम बंगाल में भाजपा को 162 से 185 सीटें मिलने का अनुमान जताया है जबकि उसके मुताबिक तृणमूल कांग्रेस 104 से 121 सीटों पर सिमट सकती है। बता दें कि, वर्ष 2016 के विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस को 211 सीटों पर जीत हासिल हुई थी।

इन अनुमानों के बीच दिल्ली विश्वविद्यालय के विकासशील देशों के शोध केंद्र (डीसीआरसी) ने अपने सर्वेक्षण में दावा किया है कि बंगाल में ममता बनर्जी की वापसी होगी जबकि असम में भाजपा अपनी सत्ता बचाने में सफल रहेगी। इस सर्वेक्षण में 1000 छात्रों ने हिस्सा लिया और इसमें पश्चिम बंगाल और असम के विभिन्न विश्वविद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों और शोधकर्ताओं ने भी भागीदारी की है।

इस सर्वेक्षण के मुताबिक बंगाल में तृणमूल कांग्रेस को 149 के करीब सीटें मिलेंगी जबकि भाजपा को 123 के करीब सीटें मिल सकती हैं। इस सर्वेक्षण के मुताबिक असम में भाजपा 99 सीटों के साथ सत्ता में वापसी करती दिख रही है जबकि कांग्रेस 19 सीटों पर सिमट सकती है। अनुमानों के मुताबिक भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच दोतरफा लड़ाई में कांग्रेस और वामपंथी दल पहले के मुकाबले और सिमट जाएंगे।

इंडिया टुडे-एक्सिस के सर्वेक्षण के मुताबिक 126 सदस्यीय असम विधानसभा में भाजपा 75 से 85 सीटें जीतकर एक बार फिर सत्ता में वापसी कर सकती है जबकि कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन को 40 से 50 सीटें मिल सकती हैं।

असम में रिपब्लिक-सीएनएक्स के सर्वेक्षण के मुताबिक भाजपा गठबंधन को 74 से 84 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है जबकि विपक्षी गठबंधन को 40 से 50 सीटें मिलने की संभावना जताई गई है।

टुडेज चाणक्या के सर्वेक्षण के मुताबिक असम में भाजपा को 70 सीटें जबकि कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन को 56 सीटें मिल सकती हैं।

केरल में वाम लोकतांत्रिक मोर्चा की सरकार के फिर से सत्ता में लौटने का अनुमान जताया गया है। मुख्यमंत्री पिनरई विजयन एलडीएफ और यूडीएफ के बारी-बारी से सत्ता में आने की परंपरा के इतर लगातार दूसरी बार सरकार बना सकते हैं।

एक्सिस माई इंडिया के सर्वेक्षण के मुताबिक एलडीएफ को 140 सदस्यीय विधानसभा में 104 सीटें मिल सकती हैं जबकि कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ को 20 से 36 सीटों पर संतोष करना पड़ सकता है।

टुडेज चाणक्या के अनुमान में एलडीएफ को 93 से 111 के बीच सीटे मिलने की संभावना जताई गई है जबकि यूडीएफ को 26 से 44 सीटें मिलने का पूर्वानुमान जताया गया है।

तमाम सर्वेक्षणों में तमिलनाडु में द्रमुक के नेतृत्व में विपक्षी गठबंधन सत्ता में वापसी के आसार जताए गए हैं।

एक्सिस माई इंडिया के मुताबिक तमिलनाडु में द्रमुक के नेतृत्व वाले गठबंधन को 175 से 195 सीटें मिल सकती हैं जबकि सीएनएक्स के सर्वेक्षण के मुताबिक उसे 160 से 170 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। इन सर्वेक्षणों के मुताबिक अन्नाद्रमुक 70 सीटों के भीतर सिमट सकती है।

टुडेज चाणक्य के सर्वे में द्रमुक को 164 से 186 सीटों के जीतने का अनुमान है। इसके मुताबिक अन्नाद्रमुक गठबंधन को 46 से 68 सीटें मिल सकती हैं।

Previous articlePrithvi Shaw’s blistering knock causes heartache for Kolkata Knight Riders as Delhi Capitals pull off comfortable victory
Next articleतमिल डायरेक्टर और सिनेमैटोग्राफर केवी आनंद का हार्ट अटैक से निधन, 54 साल की उम्र में दुनिया को कहा अलविदा