EVM हैकिंग से जुड़ी ‘फर्जी खबर’ को लेकर चुनाव आयोग ने दर्ज कराई FIR

0

चार राज्यों और एक केन्द्र शासित प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले चुनाव आयोग ने गुरुवार को कहा कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) को हैक किए जाने संबंधी एक ‘फर्जी ख़बर’ को लेकर एफआईआर दर्ज कराई गई है। इंटरनेट पर प्रसारित इस खबर में पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टीएस कृष्णमूर्ति का हवाला दिया गया है।

चुनाव आयोग
फाइल फोटो

आयोग ने एक बयान में कहा कि उसके निर्देश पर दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी ने विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज कराई है। आयोग के बयान के मुताबिक, ‘इस मामले में जांच शुरू हो चुकी है। ऐसे शरारती तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी, जिन्होंने चुनाव प्रक्रिया की छवि खराब करने के लिए फेक न्यूज फैलाई।’

आयोग ने कहा, उसके संज्ञान में आया कि कुछ सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर ईवीएम हैक करने संबंधी ‘एक पुरानी फर्जी ख़बर’ प्रसारित की जा रही थी। उन्होंने कहा कि 21 दिसंबर 2017 की तारीख वाली इस खबर में पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टीएस कृष्णमूर्ति के हवाले से दावा किया गया था कि एक विशेष दल ने ईवीएम हैकिंग के जरिए विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की। इस गलत सूचना का तत्कालीन चुनाव आयुक्त 2018 में ही स्वयं खंडन कर चुके हैं।

चुनाव आयोग ने कहा कि कुछ शरारती तत्व इसी खबर को दोबारा सोशल मीडिया पर फैला रहे हैं। कृष्णमूर्ति ने बुधवार को भी ईवीएम हैकिंग संबंधी खबर का खंडन करते हुए बयान जारी किया था और इसे पूरी तरह गलत करार दिया था। ईसी ने गुरुवार को जारी अपनी विज्ञप्ति में कृष्णमूर्ति के बयान को भी साझा किया है।

बता दें कि, चुनाव आयोग ने चार राज्यों और एक केन्द्र शासित प्रदेश के लिए 26 फरवरी को विधानसभा चुनाव के कार्यक्रम की घोषणा की थी जिसके बाद असम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में आचार संहिता लागू हो गई थी। 27 मार्च से चुनाव के लिए वोटिंग शुरू हो जाएगी। पश्चिम बंगाल में 8 चरणों में मतदान होना है। वहीं, असम में तीन चरणों में वोटिंग होगी। पुडुचेरी, केरल और तमिलनाडु में सिंगल फेज में मतदान होगा। 2 मई को चुनाव के नतीजे आएंगे। (इंपुट: भाषा के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here