VIDEO: क्या BJP ने अर्नब गोस्वामी का साथ छोड़ा? रिपब्लिक टीवी के लाइव डिबेट में भाजपा प्रवक्ता बोले- “हमें अदालतों पर भरोसा रखना चाहिए, हम ‘बनाना’ रिपब्लिक नहीं हैं”

0

महाराष्ट्र में एक इंटीरियर डिजाइनर को कथित तौर पर आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में गिरफ्तार अंग्रेजी समाचार चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ के एंकर और संस्थापक अर्नब गोस्वामी को लेकर सियासी हलचल तेज है। अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी को लेकर रिपब्लिक टीवी पर लगातार डिबेट शो आयोजित की जा रही है। इस बीच, रिपब्लिक टीवी के एक लाइव डिबेट में एक दक्षिणपंथी पैनलिस्ट ने यह आरोप लगाकर विवाद खड़ा कर दिया कि गोस्वामी की गिरफ्तारी से आम जनता के बीच भाजपा की छवि धूमिल हुई है। इसका मतलब यह था कि भाजपा ने देश में शासन करने और रिपब्लिक टीवी संस्थापक के हिंदुत्व विचारधारा के समर्थन के बावजूद गोस्वामी को राहत देने के लिए पर्याप्त काम नहीं किया। वहीं, सोशल मीडिया पर भी लोग सवाल उठा रहे है कि, क्या भाजपा ने अब अर्नब गोस्वामी का साथ छोड़ दिया है?

अर्नब गोस्वामी

दक्षिणपंथी पैनलिस्ट रतन शारदा ने भाजपा द्वारा अर्नब गोस्वामी को समर्थन की कमी के बारे में तीखी टिप्पणियां कीं। उन्होंने कहा, “…मैं आपको भाजपा के लिए विनम्रता के साथ बताता हूं कि आम लोगों के मन में धारणा की लड़ाई हार गई है। मेरे लोग मुझ पर चिल्लाते हुए कहते हैं कि भाजपा क्या कर रही है। हम टीवी पर जो कुछ भी कहते हैं, लेकिन इस घटना के कारण भाजपा के बारे में धारणा बहुत खराब है। अर्नब उठेंगे, लेकिन भाजपा को इस आधार पर कुछ दिखाना होगा कि वे वहां (अर्नब गोस्वामी के लिए) थे। कट्टर भाजपा समर्थक बहुत गुस्से में हैं।”

शारदा अपना तर्क पूरा कर पाते, इससे पहले ही भाजपा प्रवक्ता संजू वर्मा ने उनकी पार्टी की आलोचना के लिए उन्हें रोकते हुए कहा, “श्री शारदा, भाजपा कंगारू कोर्ट नहीं चला रही है।” उन्होंने कहा कि हमें अदालतों पर भरोसा रखना चाहिए। हम ‘बनाना’ रिपब्लिक नहीं हैं।

इसपर शारदा ने भाजपा प्रवक्ता को उनके खिलाफ ‘ऐसी भाषा’ का इस्तेमाल नहीं करने की चेतावनी दी। उन्होंने कहा, “मैं आपका सम्मान करता हूं, मैं भाजपा का सम्मान करता हूं। मैं भाजपा के लिए सालों तक लड़ता रहा। आपने धारणा की लड़ाई खो दी है, लोग गुस्से में हैं और आप मुझे कंगारू अदालत के बारे में सिखा रहे हैं।”

शारदा ने कहा कि उन्होंने केवल धारणा के बारे में बात की थी और उस धारणा को ठीक करना भाजपा पर निर्भर था। वर्मा ने कहा कि शारदा के पास अपनी राय देने का अधिकार था, वह भी अपनी राय व्यक्त करने की हकदार थी।

गौरतलब है कि, महाराष्ट्र के रायगढ़ पुलिस की टीम ने बुधवार सुबह मुंबई के लोअर परेल स्थित घर से अर्नब गोस्वामी को गिरफ्तार किया था। उसके बाद बुधवार देर रात ही अर्नब को तीन अन्य आरोपियों के साथ अलीबाग कोर्ट में पेश किया गया, जहां से कोर्ट ने तीनों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। अर्नब की गिरफ्तारी को लेकर भाजपा पूरे देश में प्रदर्शन कर रही है। कई भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ गृहमंत्री अमित शाह और केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने भी मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र सरकार की आलोचना की है।

Previous articleSSC JHT Admit Card 2020 Released: जूनियर हिंदी ट्रांसलेटर, जूनियर ट्रांसलेटर सहित अन्य परीक्षाओं के लिए एडमिट कार्ड ssc-cr.org पर जारी
Next articleKiara Advani reveals near-death experience, things ‘better than great sex’; replies by former co-star of Sushant Singh Rajput and Isha Ambani’s childhood friend go viral