VIDEO: कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने केजरीवाल सरकार की तारीफ में किया ट्वीट, दिल्ली कांग्रेस के नेताओं ने साधा निशाना

0

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के पूर्व सांसद मिलिंद देवड़ा ने दिल्ली में पिछले पांच साल में राजस्व दोगुना होने को लेकर अरविंद केजरीवाल सरकार की तारीफ की जिसके बाद अजय माकन सहित दिल्ली कांग्रेस के कई नेताओं ने उन पर निशाना साधा। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष अजय माकन ने उन्हें जवाब देते हुए यहां तक कह दिया कि अगर आप कांग्रेस छोड़ना चाहते हैं, तो छोड़ दें।

मिलिंद देवड़ा

दरअसल, कांग्रेस नेता मिलिंद देवरा ने रविवार रात केजरीवाल के एक भाषण का संक्षिप्त वीडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया, ”एक ऐसी जानकारी साझा कर रहा हूं जिससे कम लोग अवगत हैं। अरविंद केजरीवाल सरकार ने पिछले पांच साल में राजस्व को दोगुना कर दिया है और अब ये 60 हजार करोड़ तक पहुंच गया है। दिल्ली अब भारत का आर्थिक रूप से सबसे सक्षम राज्य बन रहा है।”

बता दें कि, कांग्रेस नेता मिलिंद देवरा के इस ट्वीट को आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी रिट्वीट किया है।

देवरा के ट्वीट पर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष अजय माकन ने कड़ी आपत्ति जताई और कुछ आंकड़े रखते हुए कहा कि, ”भाई, अगर आपको कांग्रेस पार्टी छोड़नी है, तो छोड़ सकते हैं। इसके बाद आप आधा-अधूरे तथ्यों का प्रचार करें।”

वहीं, पूर्व विधायक अलका लांबा ने भी देवरा पर निशाना साधते हुए कहा, ”पहले पिता जी के नाम से पार्टी में आओ,फिर बैठे बैठे टिकेट पाओ,कांग्रेस की लहर में पहली बार में ही केंद्रीय मंत्री भी बन जाओ। जब अपने अपने दम पर लड़ने की बात आए तो हार जाओ,पार्टी में पद की लड़ाई लड़ो, फिर पार्टी को गलियाते हुए,दूसरों के गुणगान में गिटार हाथ में लेकर बजाते रहो।”

बता दें कि, दिल्ली में एक बार फिर से आम आदमी पार्टी (आप) को प्रचंड बहुमत मिला है। विधानसभा चुनाव में 70 में से 62 सीटों पर जीत हासिल कर अरविंद केजरीवाल ने रविवार (16 फरवरी) को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। केजरीवाल तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री बने हैं। केजरीवाल का पहला कार्यकाल 49 दिनों तक चला जबकि दूसरा कार्यकाल पूरे 5 वर्ष का रहा।

गौरतलब है कि, दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजों में आम आदमी पार्टी को जबरदस्त जीत हासिल हुई थी। दिल्ली की 70 सीटों में से उसने 62 पर अपना कब्जा जमाया है। जबकि पूरी ताकत झोंकने के बावजूद भाजपा को महज 8 सीटों पर संतोष करना पड़ा। कांग्रेस एक बार फिर शून्य पर आउट हो गई। कांग्रेस का कोई उम्मीदवार चुनाव नहीं जीत सका। इसके साथ ही कांग्रेस को मिलने वाले वोटों के प्रतिशत में भी भारी कमी दर्ज की गई है।

Previous articleदिल्ली पुलिस और अपराधियों के बीच मुठभेड़, दो बदमाश ढेर
Next articleOnly losers have excuses: Kangana Ranuat’s sister faces roasting for nasty attack on Alia Bhatt for winning Filmfare award