बिहार उपचुनाव में सीएम नीतीश कुमार को बड़ा झटका, RJD के लिए उम्मीद की किरण, जानिए किस पार्टी को कितनी सीटें मिली

0

लोकसभा चुनाव में आश्चर्यजनक रूप से शानदार प्रदर्शन करने के महज पांच महीने बाद गुरुवार (24 अक्टूबर) को बिहार विधानसभा उपचुनाव के नतीजों से राजग को झटका लगा है। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) पांच सीटों में से केवल एक सीट पर जीत दर्ज कर पाया है।

file photo

उपचुनाव के नतीजे राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के लिए खुशी के पल लेकर आए हैं क्योंकि पार्टी पांच में से दो सीटों पर जीत दर्ज करने में कामयाब हुई है। जबकि हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) मुस्लिम बहुल किशनगंज सीट पर जीत दर्ज कर राज्य में उपस्थिति दर्ज कराने में कामयाब हुई है। भाजपा के बागी प्रत्याशी करणजीत सिंह दरौंदा सीट से जीते हैं।

जनता दल (यूनाइटेड) केवल नाथनगर सीट ही जीत सकी है। पार्टी के प्रत्याशी लक्ष्मी कांत मंडल ने महज पांच हजार के मामूली अंतर से राजद की राबिया खातून को हराया। हालांकि, राजग को समस्तीपुर (सुरक्षित) लोकसभा सीट के लिए हुए उपचुनाव में आसान जीत मिली है। केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के भतीजे प्रिंस राज ने कांग्रेस प्रत्याशी अशोक कुमार को करीब एक लाख मतों से हराया। यह सीट पासवान के छोटे भाई और दो बार सांसद रहे रामचंद्र पासवान के निधन से खाली हुई थी।

इस साल हुए लोकसभा चुनाव में राजग को 40 में से 39 सीटों पर जीत मिली थी जबकि राजद खाता भी नहीं खोल सकी थी। राजद के नेतृत्व वाले महागठबंधन में कांग्रेस प्रत्याशी मोहम्मद जावेद एकमात्र किशनगंज सीट से जीत दर्ज कर सके। उल्लेखनीय है कि, जिन पांच सीटों पर उपचुनाव हुए उनमें से चार भाजपा-जद (यू) गठबंधन के पास थी जबकि एक सीट कांग्रेस के पास थी। ये सीटें विधायकों के लोकसभा के लिए निर्वाचित होने की वजह से खाली हुई थी।

सिमरी-बख्तियारपुर से राजद के ज़फर आलम ने अरुण कुमार को करीब 15 हजार मतों से हराया। बेलहर सीट पर राजद के रामदेव यादव ने 19,000 मतों से लालधारी यादव को हराया। ओवैसी की पार्टी एमआईएमआईएम ने अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सभी को चौंकाते हुए किशनगंज सीट अपने नाम कर ली।

पार्टी प्रत्याशी कमरुल होदा ने भाजपा की स्वीटी सिंह को 10,000 मतों से मात दी। दरौंदा से जद (यू) ने कथित रूप से स्थानीय बाहुबली अजय सिंह को मैदान में उतारा था लेकिन उन्हें निर्दलीय के तौर पर मैदान में उतरे करणजीत सिंह उर्फ व्यास सिंह ने 27,000 मतों से हराया। करणजीत की पत्नी कविता लोकसभा चुनाव में जद (यू) की टिकट पर सिवान सीट से जीती थीं।

करणजीत सिवान में भाजपा के उपाध्यक्ष थे लेकिन इस सीट से जद (यू) प्रत्याशी उतारने की घोषणा के बाद निर्दलीय मैदान में उतरे। भाजपा ने मतदान से एक दिन पहले पार्टी से उन्हें निकाल दिया था। बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने खुशी जताई। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ दोस्तों, बिहार विधानसभा उपचुनाव के नतीजे भी आए हैं।’’ (इंपुट: भाषा के साथ)

Previous articleजानिए, महाराष्ट्र और हरियाणा में किस पार्टी को कितनी सीटें मिली, क्या रहा वोट शेयर
Next articleIBPS RRB PO Mains Results 2019: Institute of Banking Personnel Selection (IBPS) declares IBPS RRB PO Mains Results 2019 @ ibps.in