उत्तर प्रदेश: स्वामी चिन्‍मयानंद के कॉलेज की 21 वर्षीय छात्रा की इलाज के दौरान अस्पताल में मौत, आरोपियों ने रेप के बाद केरोसिन डालकर जिंदा जलाया था

0

पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद द्वारा संचालित डिग्री कॉलेज की 21 वर्षीय छात्रा के साथ हुए दुष्कर्म और उसे जलाए जाने के एक महीने बाद पीड़िता जिंदगी की जंग हार गई है। लखनऊ के एक अस्पताल में इलाज के दौरान छात्रा की मौत हो गई है। 22 फरवरी को शाहजहांपुर में छात्रा के साथ हुए इस दुराचार में उसके कमर के ऊपर का 60 फीसदी हिस्सा जल गया था।

उत्तर प्रदेश
प्रतिकात्मक फोटो

समाचार एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक, मरने से पहले छात्रा ने अपने बयान में अपने जीजा मनीष और एक अज्ञात व्यक्ति का नाम लिया था। आरोपियों से पूछताछ के दौरान उसके दोस्त के चचेरे भाई सुभाष का नाम भी सामने आया था। अब चारों आरोपी जेल में हैं। लड़की ने आरोप लगाया था कि उसे उसका दोस्त बहलाकर एक सुनसान जगह पर ले गया था, जहां एक अन्य आरोपी ने उसे बेहोश कर दिया। जब उसे होश आया तो पता चला कि उनमें से एक ने उसके साथ दुष्कर्म किया था।

लड़की के पिता ने कहा कि प्रताड़ना से मौत के दौरान उनकी बेटी ने असहनीय दर्द के बावजूद एक बहादुरी भरी लड़ाई लड़ी। सोमवार की रात को उसकी हालत अचानक बिगड़ने के कुछ घंटे बाद उसकी मौत हो गई थी। लखनऊ में डॉक्टरों के एक पैनल ने उसके शव की ऑटोप्सी की और फिर शव को शाहजहांपुर ले जाया गया। बुधवार को जिले के कैंट इलाके में स्थित उसके गांव में अंतिम संस्कार किया जाएगा।

बता दें कि, बीए सेकेंड ईयर की ये छात्रा पिछले महीने राष्ट्रीय राजमार्ग पर बिना कपड़ों के कमर के ऊपर बुरी तरह जली हुई अवस्था में मिली थी। इसके बाद शाहजहांपुर पुलिस ने आईपीसी की धारा 376-डी, 511, 120-बी, 201, 307 और 326 के तहत मामला दर्ज किया गया था। वहीं अब पीड़िता की मौत के बाद और धाराएं जोड़ी जा सकती हैं।

शाहजहांपुर के एसएसपी एस.आनंद ने कहा, “हमने सुनिश्चित किया कि पीड़िता को सर्वश्रेष्ठ इलाज मिले। अभी हमें ऑटोप्सी की रिपोर्ट नहीं मिली है। पीड़िता के बयान के आधार पर हमने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। जल्द ही हम अदालत में जांच रिपोर्ट दाखिल करके मामले की शीघ्र सुनवाई कराने की कोशिश करेंगे।”

Previous articleमध्य प्रदेश: कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने के बाद बिगड़ी थी तबीयत, अस्पताल के बाथरूम में मिला 42 वर्षीय होमगार्ड का शव
Next articleलेटर विवाद: मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का सुनवाई से इनकार, हाई कोर्ट जाने को कहा