गुजरात: लॉकडाउन के दौरान मस्जिद में जुमे की नमाज पढ़ने को लेकर 16 लोग गिरफ्तार

0

गुजरात के वडोदरा और संघ शासित क्षेत्र दमन में लॉकडाउन (बंद) के दौरान सामाजिक मेलजोल से दूरी के आदेश का उल्लंघन कर जुमे की नमाज (शुक्रवार की नमाज) पढ़ने वाले 16 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया।

प्रतीकात्मक तस्वीर

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि वडोदरा के पनिगते इलाके से नौ और दमन की एक चॉल से सात लोगों को भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत सरकारी आदेश का उल्लंघन करने के लिए पकड़ा गया। ख़बर के मुताबिक, दो दिन पहले वडोदरा में सात लोगों को एक मस्जिद के भीतर एकत्रित होकर नमाज पढ़ने के लिए गिरफ्तार किया गया था।

गुजरात में कोरोना की वजह से 19 लोगों की जान जा चुकी है। प्रदेश के प्रधान सचिव (स्वास्थ्य) जयंती रवि ने शुक्रवार को बताया कि पिछले 12 घंटे के दौरान दो लोगों की मौत हो गई। इनमें अहमदाबाद का 40 वर्षीय शख्स और गांधीनगर का 81 वर्षीय बुजुर्ग शामिल है। उन्होंने बताया कि अहमदाबाद के मरीज को किडनी से संबंधित बीमारी थी, जबकि गांधीनगर का बुजुर्ग कोरोना वायरस से संक्रमित एक व्यक्ति के करीबी संपर्क में आया था।

बता दें कि, गुजरात के सूरत में लॉकडाउन की वजह से फंसे सैकड़ों प्रवासी मजदूर शुक्रवार देर रात उग्र हो गए और सड़कों पर उतर आए। इस दौरान इन मजदूरों ने तोड़फोड़ की और वाहनों को आग लगा दी। हालांकि, जानकारी मिलते ही पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को खदेड़ दिया और स्थिति पर काबू पा लिया गया। इस संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि ये लोग अपने घर लौटने के लिए इंतजाम करने की मांग कर रहे हैं और अपना देय भुगतान भी जल्द दिए जाने की मांग कर रहे हैं।

बता दें कि, कोरोना वायरस के संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की गई है, जिसकी अवधि 14 अप्रैल को पूरी हो रही है। कोरोना के बढ़ते कहर के चलते देश में स्थिति दिन पर दिन गंभीर होती जा रही है। जहां एक ओर बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए केंद्र सरकार भी राज्य सरकारों की सहमति से लॉक डाउन की अवधि बढ़ाने पर गंभीरता से विचार कर रही है।

Previous articleकोरोना वायरस: तबलीगी जमात पर एक बार फिर से फर्जी खबरें फैलाते पकड़ा गया ज़ी न्यूज़, सार्वजनिक रूप से मांगी माफी
Next articleकोरोना वायरस: कश्मीर मुद्दे पर इस्तीफा देने वाले IAS अधिकारी कन्नन गोपीनाथन को सरकार ने ड्यूटी पर बुलाया, आने से किया इनकार