कड़ी सुरक्षा के बीच भारत लाया गया अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन

0
>

इंडोनेशिया से गिरफ़्तार किया गया अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को शुक्रवार सुबह विशेष विमान से बाली से दिल्ली के पालम एयरपोर्ट लाया गया।  इस दौरान सुरक्षा बेहद कड़ी रखी गई।

राजन को 25 स्‍वात कमांडों की कड़ी निगरानी में सुबह 6 बजे सीबीआई मुख्‍यालय लाया गया। एयरपोर्ट से सीबीआई मुख्यालय ले जाते वक़्त छोटा राजन को बुलेटप्रूफ़ एंबेसडर कार में बिठाया गया था। साथ में सीबीआई और दिल्ली पुलिस के अधिकारी भी मौजूद थे। सीबीआई मुख्‍यालय के अंदर, बाहर और आसपास के इलाकों में सुरक्षा बेहद कड़ी रखी गई है। रास्‍तों में कई जगह बैरिकेडिंग की गई है और सुरक्षा बलों की तैनाती गई है।

छोटा राजन को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में रखा गया है  जहां विभिन्न जांच एजेंसियों के अधिकारी उससे पूछताछ करेंगे क्योंकि वह यह दावे करता रहा है कि उसके पास भारत के सर्वाधिक वांछित (मोस्ट वांटेड) आतंकवादी दाउद इब्राहिम के ठिकाने के संबंध में और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के साथ दाउद के रिश्तों के संबंध में कई अन्य साक्ष्य हैं।

Also Read:  अरविन्द केजरीवाल का केंद्र से सवाल, क्या मैं अपनी पसंद का भोजन कर सकता हूं?

राजन को एयरपोर्ट से सीबीआई मुख्‍यालय तक लाने में कितनी एहतियात बरती गई, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसे लाने के लिए दो प्‍लान तैयार किए गए — प्‍लान ए और प्‍लान बी। प्‍लान ए के तहत एयरपोर्ट के मेन गेट से बुलेटप्रूफ कार एक डमी काफिले के साथ निकली और लोधी कालोनी स्थित स्‍पेशल सेल के दफ्तर पहुंची। वहीं, दूसरा ‘असली काफिला’ उसे लेकर सीबीआई दफ्तर पहुंचा।

Also Read:  Indian woman employee files 1 mn pound sexual discrimination lawsuit against Wipro

गुरुवार को इंडोनेशिया में एक अधिकारी ने बताया था कि 55 वर्षीय राजन को लेकर विशेष विमान ने नगुरा राय अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से गुरुवार स्थानीय समयानुसार रात करीब सवा दस बजे (भारतीय समयानुसार शाम पौने आठ बजे) उड़ान भरी। वहीं, इंडोनेशिया में भारत के राजदूत गुरजीत सिंह ने ट्वीट किया था कि छोटा राजन को सफलतापूर्वक भारत निर्वासित कर दिया गया। बाली एयरपोर्ट बंद रहने की वजह से हुई देरी समाप्त हुई। सहयोग के लिए इंडोनेशिया का शुक्रिया।

दरअसल, बाली के पास एक ज्वालामुखी विस्फोट से निकली राख की वजह से वहां अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर परिचालन बंद था, जिसकी वजह से राजन का निर्वासन टल गया था।

Also Read:  नोटबंदी के प्रभाव से विश्व बैंक ने भारत की वृद्धि दर का अनुमान दर घटाया

राजन हत्या, रंगदारी, तस्करी और मादक पदार्थें की तस्करी सहित 75 से ज्यादा मामलों में वांछित है। मुंबई पुलिस के पास उसके खिलाफ लगभग 70 मामले दर्ज हैं, जिनमें से 20 मामले हत्या के हैं। चार मामले आतंकी एवं विध्वंसक गतिविधियां (रोकथाम) कानून के, एक मामला आतंकवाद रोकथाम कानून का और 20 से ज्यादा मामले कठोर कानून महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम के तहत दर्ज हैं।

राजन को इंटरपोल के रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर 25 अक्टूबर को बाली हवाईअड्डे से गिरफ्तार किया गया था। उस समय वह ऑस्ट्रेलिया से इंडोनेशिया लौटा ही था।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here