योगेन्द्र यादव के समर्थन में आए पुराने साथी

0

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता योगेंद्र यादव को हिरासत में लिए जाने का विरोध किया है.  भूमि अधिग्रहण बिल का विरोध कर रहे योगेंद्र यादव को सोमवार देर रात जंतर-मंतर से हिरासत में लिया गया. योगेंद्र यादव ने ट्वीट कर करके पुलिस पर बदसलूकी के आरोप लगाए.

इस मुद्दे पर केजरीवाल ने भी ट्वीट कर कहा, “दिल्ली पुलिस ने योगेंद्रजी के साथ जो सलूक किया है, मैं उसकी सख़्ती से निंदा करता हूं. वे शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे थे. ये उनका मौलिक अधिकार है.”

गौरतलब है की इसी साल केजरीवाल से मतभेदों के कारण योगेंद्र यादव को आम आदमी पार्टी से निकाला गया था. लेकिन यह देखना होगा की अब जब की आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल यादव का समर्थन कर रहे हैं साथ ही नवीन जयहिंद भी योगेन्द्र यादव का समर्थन कर रहे हैं. जो की एक बड़ी बात है क्योंकि नवीन जैहिंद और यादव के बीच तनाव की बात कोई नेई नहीं है.

इसके साथ साथ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भी हिरासत में लिए जाने का विरोध किया है.

 

योगेंद्र यादव का संगठन ‘स्वराज अभियान’ भूमि अधिग्रहण बिल का विरोध कर रहा है. इसी मुद्दे पर वो सोमवार को अपने साथियों के साथ जंतर-मंतर पर रैली कर रहे थे, कि देर रात उन्हें योगेंद्र यादव को हिरासत में ले लिया गया. उनके सहयोगी प्रशांत भूषण ने ट्वीट किया कि ‘पार्लियामेंट पुलिस स्टेशन पर मैंने गिरफ़्तारी की वजह पूछी लेकिन पुलिस का कोई जवाब नहीं मिला. योगेंद्र यादव के संगठन ने किसानों के पक्ष में पंजाब से ट्रैक्टर रैली शुरू की थी और इस रैली में देश के अलग-अलग हिस्सों के किसान शामिल हैं. जबकि पुलिस द्वारा हिरासत की वजह अपने समर्थकों के साथ जंतर मंतर से प्रधानमंत्री आवास की ओर कूच करना बताया जा रहा है. जबकि यादव ने हिरासत के दौरान मारपीट करने का भी आरोप लगाया है.

 

योगेन्द्र यादव को पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने में रखा गया है. जबकि दिल्ली पुलिस सूत्रों का कहना है कि 15 अगस्त नज़दीक होने के चलते धारा 144 लागू है और प्रदर्शनकारियों ने शांति भंग करने की कोशिश की. साथ ही स्वराज अभियान को 10 अगस्त तक प्रदर्शन करने की अनुमति थी. हालांकि इसे 14 अगस्त तक बढ़ाने की अनुमति दी गई,  लेकिन पुलिस ने इसे माना नहीं.

 

LEAVE A REPLY