रॉबर्ट वाड्रा को विशेषाधिकार हनन का नोटिस, सांसदों पर कॉमेंट करके फंस गए

0

तीन दिन से कांग्रेस के बीजेपी के टॉप लीडर्स के इस्तीफ़े की माँग को लेकर संसद न चलने देने पर बीजेपी ने आक्रामक रुख अपनाते हुए सोनिया गांधी के दाामद रॉबर्ट वाड्रा को निशाने पर ले लिया है । रॉबर्ट वाड्रा की ओर से मंगलवार को फेसबुक पर की गई टिप्पणी पर लोकसभा में उनके खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव पेश किया गया।

वाड्रा ने 21 जुलाई को फेसबुक पर संसद सत्र के बारे में टिप्पणी करते हुए कहा था, “संसद शुरू हो गई है और साथ ही शुरू हो गई है उनकी क्षुद्र विभाजनकारी राजनीति। भारत की जनता बेवकूफ नहीं है, खेद है कि भारत का नेतृत्व ऐसे तथाकथित नेता कर रहे हैं”|

Also Read:  Snapdeal ends merger talks with Flipkart; to go solo

लोकसभा में बीजेपी सांसद अर्जुन मेघवाल ने रॉबर्ट वाड्रा के फेसबुक पोस्ट पर सवाल उठाया और कहा कि यह संसद का अपमान है। उन्होंने नोटिस देते हुए इस पर बोलने का समय मांगा, जिसके चलते सदन में जबरदस्त हंगामा हुआ और कार्यवाही सवा 12 बजे दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई। शून्यकाल में बीजेपी के प्रह्लाद जोशी ने वाड्रा की टिप्पणी को संसद पर हमला बताते हुए कहा कि इससे संसद की गरिमा को ठेस पहुंची है। उन्होंने मांग की कि वाड्रा को तुरंत सदन में बुलाकर उन्हें उनकी टिप्पणी के लिए दंडित किया जाए। उन्होंने इस मामले को विशेषाधिकार समिति को भेजे जाने की मांग की।

Also Read:  Condolences pour in on Vinod Khanna's death, 'Baahubali' team cancels premiere as mark of respect

सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने इसका कड़ा विरोध करते हुए कहा कि वाड्रा सदन के सदस्य नहीं हैं, इसलिए जोशी की टिप्पणी को कार्यवाही से निकाला जाए। सदन में मौजूद सोनिया गांधी, जोशी की इस टिप्पणी पर उद्वेलित नजर आईं और अपनी पार्टी के सदस्यों से कुछ कहती देखी गईं। कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली ने भी कहा, “वाड्रा संसद सदस्य नहीं हैं। बीजेपी को संसद पर भरोसा नहीं है। वे विवाद चाहते हैं, तानाशाही चाहते हैं। यह मूर्खतापूर्ण है और इसका कोई आधार नहीं है।“

Also Read:  BJP नेता की गाड़ी से 3 करोड़ बरामद, दिल्ली से लखनऊ ले जाई जा रही थी रकम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here