राजस्थान में आरक्षण कोटा 49 फीसदी से बढ़ा कर 68 फीसदी किया गया

0

बुधवार को राजस्थान विधानसभा में दो बिल पास करा कर राजस्थान में आरक्षण कोटा को 49 फीसदी से बढ़ा कर 68 फीसदी कर दिया गया है।

अब राजस्थान में कॉलेज और सरकारी नौकरी में सामान्य वर्ग की हिस्सेदारी घट कर के एक तिहाई रह गयी है।

बिल के अंतर्गत गुज्जर समुदाय को 5 फीसदी और आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को 14 फीसदी आरक्षण दिया गया है

Also Read:  सुप्रीम कोर्ट ने नोटबंदी पर मोदी सरकार से पूछा- क्यों नहीं दिया 31 मार्च तक पुराने नोट जमा करने का मौका

। सुप्रीम कोर्ट के 1991 के कानून (जिसमे कहा गया था कि राज्य सरकार 50 फीसदी आरक्षण जाति के आधार पर दे सकती है) के ख़िलाफ़ 2009 के साल में राजस्थान कोर्ट ने आरक्षण कोटा को बढ़ाने वाले बिल पर रोक लगा दी थी।

Also Read:  Maharashtra government may appeal against High Court's decision decriminalising beef possession

राज्य सरकार के प्रवक्ता राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि केंद्र सरकार से संविधान में सुधार लाने के प्रयास के लियें गुज़ारिश की जाएगी ताकि ये कोटा बढ़ाने वाला बिल को न्यायिक प्रक्रिया से गुजारने की कोई गुंजाईश न हो।

उन्होंने साथ में ये भी कहा की 50 फीसदी से ज्यादा का जातिगत आरक्षण कोटा कर्नाटक, आंध्रप्रदेश और ओडिशा जैसे राज्यों ने भी दिया है।

Also Read:  केजरीवाल ने कहा- "जजों के फोन टेप हो रहे हैं और वो बात करते में भी डरते है" तो मोदी ने पूछा माहौल इतना गंभीर क्यों है?

नए बिल के पास होने के बाद अब राजस्थान देश का सबसे जयादा रिजर्वेशन सीट देने वाला राज्य बन गया है ।

राजस्थान कांग्रेस के सचिन पाइलट ने चुटकी ली और कहा की ये सब बकवास है और बिल हास्यास्पद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here