वैज्ञानिक पीएम भार्गव भी लौटाएंगे अपना पद्म भूषण अवार्ड

0

मशहूर वैज्ञानिक पीएम भार्गव ने कहा है कि वे भी अपना पद्म भूषण अवार्ड लौटाएंगे। इसका कारण भार्गव ने वर्तमान भारत सरकार के विभाजनकारी नीति को जिम्मेदार ठहराया है। भार्गव को 1986 में पद्म भूषण सम्मान मिला था।

साथ ही भार्गव ने कहा कि वर्तमान में हो रहे तर्कवादी लोगों की हत्या और सांप्रदायिक हिंसा के विरोध में साहित्यकारों और फिल्मकारों को समर्थन देने के लिए वे ऐसा कर रहे हैं। भार्गव ने यह भी कहा कि आज़ादी छीनी जा रही है।

Also Read:  गुजरात विश्वविद्यालय ने पीएम नरेंद्र मोदी की शैक्षिक योग्यता पर आरटीआई अनुरोध को खारिज किया

उन्होंने कहा कि देश की सरकार जिस तरीके से काम कर रही है उससे भारत पाकिस्तान बनने की तरफ बढ़ रहा है।

भार्गव ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा और कहा कि वर्तमान सरकार हिंदू राष्ट्र बनाने की कोशिश कर रही है। धर्म की तानाशाही के शासन का खतरा पैदा हो गया है।

Also Read:  'सबका साथ', 'सबका विकास' के साथ 'सबका न्याय' भी जरूरी: मोदी

साथ ही उन्होंने कहा कि मैं ईमानदार हूं और मेरे पास और कोई रास्ता नहीं है। मैंने मान बेचा नहीं है मैं सम्मान वापस कर दूंगा।

उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक के अनुसार चरक संहिता में लिखा है कि गाय के गोश्त खाने की कोई मनाही नहीं थी। इसके फायदे लिखे हुए हैं। कोई सरकार ये कैसे बता सकती है कि हम क्या खाएं और क्या पहनें।

Also Read:  आज तक की एंकर अंजना ओम कश्यप ने अपना पूरा नाम बोला 'अंजना ओम मोदी', वीडियो वायरल

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here