…जब माँ ने 10 लाख बीमा के लिए कर दी बेटे की हत्या

1

जब माँ ही बेटे के रक्षक की जगह भक्षक बन जाय तो फिर क्या कहना. कुछ ऐसा ही घटना पुणे में सामने आई है,  जहाँ एक माँ ने अपने बेटे की सिर्फ इसलिए हत्या कर दी क्योंकी अपने बेटे के नाम पर की गई 10 लाख की बीमा पालिसी उसे मिल जाय. इस मामले में एक नया विवरण सामने आया है, परिवारवालों का कहना है कि 13 वर्षीय बालक की हत्या उसकी मां राखी और उसके प्रेमी ने मिलकर पैसे के मकसद से की थी. जिससे कि 13 वर्षीय बालक चैतन्य के नाम पर किया गया 10 लाख की बीमा पॉलिसी उन्हें मिल सके.

राखी की मां और पड़ोसियों के साथ बातचीत में पता चला है की चैतन्य को समय समय पर टर्चेर किया जा रहा था. जिसमे वह कथित तौर पर चार घंटे के लिए व्यायाम और देर रात में उसे रखने के लिए उसे मजबूर करता था. यही कारण है की समय-समय पर चैतन्य को भूखे भी रहना पड़ता था.

Also Read:  Make marital rape a crime, govt panel tells Centre

इस मामले में जांच कर रही सहायक पुलिस निरीक्षक सूर्यकांत ने बताया कि राखी का पति  तरुण  चैतन्य के नाम पर एक बीमा पॉलिसी कराया था. साथ ही इस एक मामले में तरह-तरह के मामले उभर कर आ रहे हैं. हम आगे इस मामले की जांच कर रहे हैं और राखी की मां और उसके पति तरुण के बयान दर्ज करने के बाद 14 अगस्त तक एक निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकता है.

Congress advt 2

बताया जा रहा है की राखी और उसके पति  तरुण के बीच तलाक होने के बाद से ही राखी चैतन्य के नाम पर किया गया 10 लाख बीमा के लिया सतर्क थी. शायद यही कारण रहा होगा की राखी और उसके कथित प्रेमी, सुमित बीमा पॉलिसी से पैसे का दावा कर सके और मौत को एक दुर्घटना के रूप में   चित्रित करने के लिए एक साजिश रची गई.

Also Read:  Sachin Tendulkar now bats for sanitation initiative

गौरतलब हो की चैतन्य की ऑटोप्सी की रिपोर्ट में पता चला है की चैतन्य को छाती और पेट में हुए आघात की वजह से मृत्यु हो गई. बाद में राखी ने भी यह कबूल कर लिया है की उसने एक बल्ले के साथ उसे पीटा था. साथ ही इस मामले में राखी के कथित प्रेमी सुमित को भी शनिवार को गिरफ्तार किया जा चूका है जिसे 12 अगस्त तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है. और राखी को भी  शुक्रवार को न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष प्रस्तुत किया था जिसे 10 अगस्त तक हिरासत में भेज दिया गया था।

Also Read:  Core sector growth slows down to 19-month low to 0.4% in June

इस मामले में राखी के पति का कहना है कि पहले भी राखी दो मामलों और मेरे खिलाफ तीन गैर संज्ञेय अपराध दर्ज किया था, जिसमे वह हमारे तलाक के निपटान में 25 लाख रुपये की मांग की थी.

राखी के 62 वर्षीय मां, नीला का कहना है की चैतन्य एक उत्कृष्ट गायक था और इंडियन आइडल में भाग भी लिया था. लेकिन राखी उसे गायन की कक्षाओं के लिए कभी प्रोत्साहित नहीं किया.

1 COMMENT

  1. AAp log hindi bhasha ko our barbaad mat kro please. “इस मामले में जांच कर रही सहायक पुलिस निरीक्षक सूर्यकांत ने बताया कि राखी का पति तरुण चैतन्य के नाम पर एक बीमा पॉलिसी कराया था.” Aapki news me content kaafi achcha hota hai, lekin bhasha utni sahi nahi hoti.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here