सच बोलने की कीमत चुकानी पड़े तो डर नहीं: शत्रुघ्न सिन्हा

0

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद और अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा को एक बार फिर अपनी ही पार्टी के कुछ नेताओं को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि पार्टी के कुछ स्थानीय नेताओं के कारण ही उन्हें चुनाव में प्रचार से दूर रखा गया है।

उन्होंने यह भी कहा की अगर सच बोलने की कीमत चुकानी पड़ेगी तो उन्हें कोई डर नहीं है।

पटना में मतदान करने के बाद पत्रकारों से चर्चा करते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, “पार्टी के स्टार प्रचारक होने के बावजूद मुझे प्रचार से दूर रखा गया। आज अपने राष्ट्रीय कर्तव्य का निर्वाह यानी मतदान करने पटना आया हूं। कई स्थानीय नेताओं की नजर में मैं खटकता हूं।”

‘बिहारी बाबू’ के नाम से चर्चित सांसद ने एक बार फिर दोहराया कि भाजपा को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर चुनाव मैदान में जाना चाहिए, लेकिन तीन फेज का मतदान हो चुका है, यानी अब तीर कमान से निकल चुका है।

पार्टी पर लगातार हमला किए जाने के बाबत पूछे जाने पर शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, “मैंने पार्टी को आईना दिखाया है, पार्टी के लिए कभी मुश्किल खड़ी नहीं किया। प्याज की कीमतों ने हम सबको रुलाया था, तब बोला। दाल की कीमतों को लेकर मैंने चिंता जताई है। और क्या किया?”

पार्टी कारवाई भी तो कर सकती है, इस सवाल पर उन्होंने कहा, “अगर सच बोलने की कीमत चुकानी पड़ेगी तो मुझे कोई डर नहीं।”

शत्रुघ्न सिन्हा कहा कि आज बिहार के स्थानीय नेताओं के कारण ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मजबूरी में कस्बों और गांव-गांव में सभाएं करनी पड़ रही हैं और यह सही नहीं है।

अगर नीतीश जीते तो उन्हें शुभकामना देंगे? इस सवाल पर उन्होंने कहा, “मैं अभी से सबको शुभकामना दे रहा हूं।”

उल्लेखनीय है कि पिछले कई दिनों से शत्रुघ्न सिन्हा कई मामलों को लेकर ट्विटर पर अपनी ही पार्टी को कोसते रहे हैं और विपक्षी दलों को भाजपा पर हमला बोलने का मौका देते रहे हैं।

LEAVE A REPLY