जसलीन कौर मामला: दिल्ली में एक महिला थाने से 100 मीटर की दूरी पर भी सुरक्षित नहीं है

3

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालिवाल ने उस ‘बहादुर लड़की’ से मिलने की इच्छा जताई है जिनके साथ रविवार तकरीबन 8 बजे एक लड़के ने छेड़कानी की और तरह तरह के अपशब्दों से उस लड़की पर कमेंट किया।

फेसबुक पर एक लड़की जसलीन कौर ने एक पोस्ट रविवार को किया जिसे खबर लिखे जाने तक 21 हजार से ज्यादा लोगों ने शेयर किया है। इस पोस्ट में जसलीन ने लिखा है कि रविवार करीब 8 बजे तिलक नगर, अग्रवाल के पास खड़ी थी, “तभी एक सिल्वर कलर की रोयल इनफिल्ड- जिसका नंबर DL 4S CE 3623 है आया और मेरे उपर तरह-तरह के गलत कमेंट करने लगा, और जब मैंने कहा कि मैं तुम्हारा फोटो खींच रहा हूं और मैं इसकी शिकायत करूंगा तो वो(लड़का) कहने लगा, ‘ जो कर सकती है कर ले, पहले शिकायत करके तो दिखा, फिर देखियो क्या करता हूं मैं’।”

साथ ही जसलीन ने कहा कि वहां पर खड़े लोगों में से किसी ने भी उसे कुछ कहने की हिम्मत नहीं दिखाई और “मुझे खुद ही उसका सामना करना परा। और फिर मैंने तिलक नगर थाना जाकर उस लड़के के फोटो और गाड़ी नंबर के साथ शिकायत दर्ज कराई।

jasleen

गौरतलब है कि जहां यह घटना हुई वहां से सौ मीटर की दूरी पर ही पुलिस चौकी है। अतः सवाल यह उठता है कि अगर सौ मीटर की दूरी पर किसी के साथ ऐसी छेड़खानी हो जाती है और पुलिस उसे सुरक्षा नहीं दे पाती है तो पिर जो घटना इससे दूर होते होंगे उसे सुरक्षा कैसे मिलती होगी, यह सोचनीय है ?

11900799_475249489321601_1163780137_o (1)

इस सन्दर्भ में स्वाति मालिवाल ने कहा कि ‘ मैं जसलीन से मिलने की कोशिश कर रही हूं, लेकिन उससे सम्पर्क नहीं हो पा रहा है।’

3 COMMENTS

  1. This girl is the biggest fraud. First of all she is an aap volunteer. This game is a dirty trick of aap to malign delhi police. Vikas Yogi(Spokesperson of Aam Aadmi Party Youth Wing / Member of AAP National Media Team) posted a photo on twitter of that boy on 10:42 am on 23 August. The victim Jasleen Kaur wrote FB post nearly 10 pm on 23 August and posted a pic of harasser on twitter on 11:27 am 23 August. Now how come Vikas Yogi know the incident and got that pic of harasser on 10:42 am in morning. She never shared that pic with anyone, then how come an aap youth leader gets accessed to it. If u don’t believe me just check both(Jasleen Kaur and Vikas Yogi) FB and twitter post related to that incident and check time mention on posting pic and post.

  2. Hemant Desai, tried to find that very post of @VikasYogi in twitter but the latest one is around 17-18 hrs back means after victim posted it in FB & Twitter. Now there is a chance he might have deleted that or you are spreading lie. I hope you have a screen shot to prove ur point!!!

  3. Just because the man has been clicked does not mean he is an offender. The work by Jasleen is commendable if the case has authenticity. But just with pix and allegations by Jasleen we cant know the authenticity of the case. Any brave man or woman for that matter would always speak up against allegations against them so the man could have said “do what you can” but that is not all enough. Jasleen could have misused the situation too. so only a proper investigation can reveal facts. But arresting him only against allegation shows police goondaism.
    Such things can only be avoided when we have a uniform Law and Order system. which simply says criminal or no criminal. Nothing to do with gender, colour, creed etc. There should be no reservation in law.
    All women are not saint and all men are not criminals and vice versa. Misused law is the most brilliant weapon of destruction

LEAVE A REPLY