मोदी कहेंगे तो उनका जूता भी उठा लूंगा : मुनव्वर राना

0

देश में असहिष्णुता का माहौल पैदा होने को लेकर कुछ दिनों पूर्व केंद्र सरकार पर सवाल खड़ा करते हुए साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने वाले प्रख्यात शायर मुनव्वर राना के सुर अब बदल गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके बड़े भाई की तरह हैं और अगर वह इस हैसियत से कहेंगे तो वह उनका जूता उठाने को भी तैयार हैं। लखनऊ में गुरुवार को अपने आवास पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा, “मैं व्यक्तिगत तौर पर उनकी बड़ी इज्जत करता हूं। अगर मोदी कहेंगे तो वह साहित्य अकादमी पुरस्कार स्वीकार कर लूंगा। मैं प्रधानमंत्री से जल्द ही अगले हफ्ते मुलाकात करूंगा।”

Also Read:  CISF Jawan commits suicide by shooting himself with service rifle

प्रख्यात शायर ने कहा, “मुझे सत्ता और इनाम का कोई शौक नहीं है। सत्ता तो मेरे शहर की नालियों में बहती है। मैं तो उसूलों पर चलने वाला व्यक्ति हूं। मर जाऊंगा, लेकिन अपने उसूलों से समझौता नहीं करूंगा। देश में आपसी भाईचारे का माहौल भी बनाना है।”

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद सच बताने वाला कोई शख्स होना चाहिए। सिर्फ खुशामद करने वाले व्यक्ति कभी-कभी घातक हो जाते हैं।

Also Read:  India-Pakistan ties need an injection of positivity: Pak daily

ज्ञात हो कि साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने वाले देश के मशहूर शायर मुनव्वर राना की मुलाकात जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हो सकती है। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने राना से संपर्क कर यह पूछा है कि ‘आप मुलाकात के लिए कब उपलब्ध हो सकते हैं।’

मूलरूप से रायबरेली के रहने वाले राना ने भी इसकी पुष्टि कर दी है। राना ने कहा है कि हां प्रधानमंत्री से मुलाकात को लेकर उनके पास फोन आया था।

Also Read:  These photos say a lot about PM Modi's so-called anger against gau rakshaks

ऐसा माना जा रहा है कि अगले सप्ताह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शायर मुनव्वर राना से मुलाकात हो सकती है।

मुन्नवर राना ने भी अन्य साहित्यकारों की तरह ही देश के बिगड़ रहे माहौल को लेकर साहित्य अकादमी पुरस्कार और पुरस्कार स्वरूप मिले एक लाख रुपये का चेक एक टीवी शो के दौरान वापस कर दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here