जिस देश में तुमने जनम लिया उसको दुश्मन बतलाते हो

1

योगेश्वर दत्त

गज़नी का है तुम में खून भरा जो तुम अफज़ल का गुण गाते हों,
जिस देश में तुमने जनम लिया उसको दुश्मन बतलाते हो!

भाषा की कैसी आज़ादी जो तुम भारत माँ का अपमान करो,
अभिव्यक्ति का ये कैसा रूप जो तुम देश की इज़्ज़त नीलाम करो!

अफज़ल को अगर शहीद कहते हो तो हनुमनथप्पा क्या कहलायेगा,
कोई इनके रहनुमाओं का मज़हब मुझको बतलायेगा!

Also Read:  दिल्ली: नाबालिग कबड्डी खिलाड़ी ने कोच पर लगाया रेप का आरोप, FIR दर्ज

अपनी माँ से जंग करके ये कैसी सत्ता पाओगे,
जिस देश के तुम गुण गाते हो, वहाँ बस काफिर कहलाओगे!

हम तो अफज़ल मारेंगे तुम अफज़ल फिर से पैदा कर लेना,
तुम जैसे नपुंसको पे भारी पड़ेगी ये भारत सेना!

Congress advt 2

तुम ललकारो और हम न आये ऐसे बुरे हालात नहीं
भारत को बर्बाद करो इतनी भी तुम्हारी औकात नहीं!

Also Read:  Pakistani who strayed into India sent home

कलम पकड़ने वाले हाथों को बंदूक उठाना ना पड़ जाए,
अफज़ल के लिए लड़ने वाले कहीं हमारे हाथो न मर जाये!

भगत सिंह और आज़ाद की इस देश में कमी नहीं, बस इक इंक़लाब होना चाहिए,

इस देश को बर्बाद करने वाली हर आवाज दबनी चाहिए!

Also Read:  J&K: बांदीपुरा में सुरक्षाबलों ने ढेर किए दो आतंकी, 2 जवान भी शहीद

ये देश तुम्हारा है ये देश हमारा है, हम सब इसका सम्मान करें,
जिस मिट्टी पे हैं जनम लिया उसपे हम अभिमान करें!

जय हिंद ।

योगेश्वर दत्त ओलिंपिक मेडल विजेता पहलवान हैं, और ये कविता उन्होंने जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में हो रहे विवाद के बाद लिखा है. यहाँ व्यक्त किये गए विचार उनके निजी हैं ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here