चेन्नई एकदिवसीय : भारत ने दक्षिण अफ्रीका को दी 300 रनों की चुनौती

0

एम. ए. चिदंबरम स्टेडियम में गुरुवार को चल रहे पांच मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला के ‘करो या मरो’ वाले चौथे एकदिवसीय मैच में भारतीय टीम ने उप-कप्तान विराट कोहली (138) की नायाब शतकीय पारी की बदौलत दक्षिण अफ्रीका के सामने जीत के लिए 300 रनों का लक्ष्य रखा है। कोहली के अलावा अजिंक्य रहाणे (45) और सुरेश रैना (53) ने भी अहम पारियां खेलीं, जिनके बल पर भारत ने निर्धारित 50 ओवरों में छह विकेट पर 299 रन बनाए।

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया, हालांकि दोनों सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा (21) और शिखर धवन (7) खास योगदान दिए बगैर 35 के कुल योग तक पवेलियन लौट चुके थे।

रोहित 19 गेंदों में चार चौके लगाकर अच्छी लय में नजर आ रहे थे, लेकिन पांचवें ओवर की पांचवीं गेंद पर उनके तेज शॉट को मिडविकेट पर खड़े फॉफ डू प्लेसिस ने बेहतरीन कैच लिया। रोहित का विकेट क्रिस मौरिस ने लिया।

धवन भी ज्यादा देर नहीं टिक सके। श्रृंखला में बेहतरीन फॉर्म में चल रहे कैगिसो रबाडा की शॉर्ट गेंद पुल करने के प्रयास में गेंद धवन के बल्ले का किनारा लेकर लेग स्लिप में उछली, जिसे विकेटकीपर क्विंटन डी कॉक ने शानदार अंदाज में लपका।

इसके बाद हालांकि कोहली और रहाणे ने जिस अंदाज में बल्लेबाजी शुरू की उससे दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों की सारी कोशिशें नाकाम नजर आने लगीं। लगातार छोर बदलते हुए दोनों बल्लेबाजों ने विकेट को व्यस्त रखा और बीच-बीच में हर कमजोर गेंद पर बाउंड्री लगाते रहे।

कोहली और रहाणे के बीच 5.67 के औसत से शतकीय साझेदारी हुई। अपना दूसरा स्पेल लेकर आए डेल स्टेन ने पहली ही गेंद पर रहाणे को विकेट के पीछे डी कॉक के हाथों कैच करा इस साझेदारी को तोड़ा।

लंबे इंतजार के बाद इस मैच में सुरेश रैना का भी बल्ला बोला। रैना ने कोहली के साथ 6.8 के औसत से तेजी से रन जुटाए।

कोहली ने इस बीच 112 गेंद पर छक्के की मदद से करियर का 23वां शतक पूरा किया। 52 गेंदों पर तीन चौके और एक छक्के की मदद से अर्धशतक पूरा कर चुके रैना की कोहली के साथ साझेदारी अब खतरनाक हो चली थी कि स्टेन ने 266 के कुल योग पर रैना की गिल्लियां बिखेर दीं।

भारत के पास अभी भी कोहली और कप्तान धौनी सहित छह विकेट बचे थे और आखिरी की 31 गेंदों पर क्रिकेट प्रशंसकों को अधिक से अधिक रनों की आस थी। लेकिन स्लॉग ओवरों में बड़े शॉट न खेल सकने की श्रृंखला में नई-नई उपजी भारतीय टीम की कमजोरी इस मैच में भी नजर आई।

इस श्रृंखला में शानदार फॉर्म में चल रहे युवा तेज गेंदबाज कैगिसो रबाडा ने कोहली की शतकीय पारी को विराम लगाने के बाद अगली ही गेंद पर हरभजन सिंह को खाता खोलने तक का मौका नहीं दिया।

कोहली ने 140 गेंदों का सामना करते हुए छह चौके और पांच छक्के लगाए।

भारतीय बल्लेबाज आखिरी के चार ओवरों में सिर्फ 18 रन जोड़ सके और इस दौरान चार विकेट भी गंवाए।

इस मैच में छठे क्रम पर बल्लेबाजी करने उतरे धौनी 16 गेंदों में एक चौके की मदद से सिर्फ 15 रन बना सके।

दक्षिण अफ्रीका के लिए रबाडा और डेल स्टेन ने तीन-तीन, जबकि क्रिस मौरिस ने एक विकेट लिया। आखिरी गेंद पर भुवनेश्वर कुमार (0) रन आउट हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here