मलेशिया में पुलिस ने लगाया ज़ाकिर नाइक के भाषण पर प्रतिबन्ध, चीनीयों और हिन्दुओं पर दिया था विवादास्पद बयान

0

विवादित इस्लामी उपदेशक ज़ाकिर नाइक पर मलेशिया में किसी भी प्रकार के सार्वजनिक भाषण पर पाबंदी लगा दी गयी है। उनके भाषण पर पाबन्दी स्थानीय पुलिस द्वारा नाइक के साथ तक़रीबन दस घंटे तक चलने वाली पूछताछ के बाद लगायी गयी है।
ज़ाकिर नाइक

नाइक ने हाल ही में मलेशिया में रहने वाले हिन्दुओं के बारे में कहा था कि मलेशिया में उनके पास भारत में रहने वाले मुसलामानों से ज़्यादा आज़ादी है। मलेशिया में रहने वाले चीनी मूल के लोगों के बारे में नाइक ने कहा था कि वो मलेशिया के मेहमान है।

नाइक के इस बयान के बाद देश के कई मंत्रियों ने उनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की मांग की थी। नाइक पिछले तीन सालों से मलेशिया में रह रहे हैं। मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मुहम्मद ने अब तक भारत द्वारा नाइक के प्रत्यार्पण की कोशिशों को नाकाम कर दिया है। मुहम्मद के कार्यकाल में नाइक को मलेशिया में स्थायी तौर रहने की अनुमति दी गयी थी।

नाइक के ताज़ा विवादित बयान ने मलेशिया के प्रधानमंत्री को भी नाराज़ कर दिया है। उन्होंने ने रविवार को एक प्रेस वार्ता में कहा, “ज़ाकिर नाइक धार्मिक मामलों पे उपदेश करें लेकिन वो ऐसा नहीं कर रहे हैं। वह चीनियों को चीन और भारतियों को भारत वापस भेज रहे हैं। मेरी नज़र में ये एक राजनितिक क़दम है। ”

भारत सरकार पिछले तीन साल से वित्तीय घोटाले और आतंक को बढ़ावा देने के आरोप में नाइक को भारत लाना चाहती है।

मलेशिया की कुल 3.2 करोड़ की आबादी में मुसलमानों का हिस्सा 60 प्रतिशत है। बाक़ी 40 प्रतिशत लोग या तो चीनी मूल के हैं या फिर भारतीय, जिनमें ज़्यादातर हिन्दू हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here