फेसबुक पर पाकिस्तान को जीत की बधाई देने पर योगी सरकार ने टीचर को किया निलंबित

0

जिस तरह से मोदी सरकार आलोचना बर्दाश्त नहीं करती और उनके समर्थक पीएम मोदी के खिलाफ बोलने वाले को भारी सजा देते है अब उसी राह पर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार भी आ गई है। ताजा मामले में एक दलित शिक्षक को इसलिए स्कूल से निलंबित कर दिया गया क्योंकि उसने फेसबुक पर पाकिस्तान की टीम के जीतने पर बधाई देने वाली पोस्ट की थी।

योगी सरकार

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, धर्मेन्द्र कुमार के खिलाफ शिक्षा विभाग को भेजे गये शिकायती पत्र में उनके फेसबुक पोस्ट के 10 स्क्रीनशॉट्स दिये गये हैं। आरोप है कि दलित टीचर धर्मेन्द्र कुमार ने फेसबुक पर कथित तौर पर देश विरोधी और पीएम मोदी व सीएम योगी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणियां की थी।

धर्मेन्द्र कुमार अलीगढ़ जिले के अलीपुर इलाके में बिजौली ब्लॉक में बतौर प्राथमिक शिक्षक के पद पर तैनात थे। धर्मेन्द्र कुमार दलित समुदाय से आते हैं।

 

अलीगढ़ बेसिक शिक्षा अधिकारी धीरेन्द्र सिंह यादव को इस सारे मामले की जांच का जिम्मा दिया गया है। बताया गया कि प्राथमिक शिक्षक धर्मेन्द्र कुमार ने पाकिस्तान क्रिकेट टीम की जीत पर कथित रूप से उन्हें बधाई तो दी ही थी इसके अलावा उन्होंने कथित तौर पर लिखा था कि ‘जम्मू कश्मीर भारत का अंग नहीं है क्योंकि वहां जीएसटी लागू नहीं है।’

जबकि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले पर शिक्षक धर्मेन्द्र ने आगे आते हुए अपना पक्ष रखा और बताया कि मैं खुद क्रिकेट खेलता हूं और एक खिलाड़ी हूं।, 18 जून को चैम्पियंस ट्राफी के फाइनल मैच में पाकिस्तान ने भारत को शिकस्त दी तो मैंने उन्हें बधाई दी थी, लेकिन मैंने अपने देश के खिलाफ किसी भी तरह की टिप्पणी नहीं की हैं। रही बात जम्मू कश्मीर पर मेरे लिखते की तो मैंने सिर्फ ये सवाल उठाया था कि वहां के लोगों से GST क्यों नहीं वसूला जाता हैं।

आपको बता दे कि 35 वर्षीय धर्मेन्द्र कुमार के खिलाफ कार्रवाई राज्य के प्राथमिक और उच्च शिक्षा मंत्री संदीप सिंह के निर्देश के आधार पर की गई है। मंत्री को एक दूसरे सरकारी स्कूल के शिक्षक ने इस बारे में शिकायत की थी। इसके बाद शिक्षा मंत्री ने जांच के आदेश दिए।

प्रमाण के तौर पर धर्मेन्द्र कुमार के खिलाफ शिक्षा विभाग को भेजे गये शिकायती पत्र में उनके फेसबुक पोस्ट के 10 स्क्रीनशॉट्स भी दिये गये हैं। इस मामले में बेसिक शिक्षा अधिकारी धीरेन्द्र सिंह यादव ने बताया कि जांच रिपोर्ट के आधार पर उनके खिलाफ FIR दर्ज करने का फैसला लिया जाएगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here