“बंद पड़े हैं सारे काम बिखरा पड़ा सब सामान, तरक़्क़ी के रुके हैं रस्ते, बदल रहे हैं बस नाम”

0

इस वक्त देश में विशेष तौर पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) शासित राज्यों में शहरों और सड़कों का नाम बदलने का दौर चल रहा है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही इलाहाबाद का नाम प्रयागराज और फैजाबाद का नाम अयोध्या करने का ऐलान कर चुके हैं। इस बीच ख़बर है कि राज्य के ऐसे तमाम शहर हैं, जिनके नाम बदले जाएंगे और इन नामों में मुजफ्फरनगर और आगरा शहर का नाम भी जुट गया है।

योगी आदित्यनाथ
(Subhankar Chakraborty/HT PHOTO)

इसी बीच, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शहरों के नाम बदले जाने पर निशाना साधते हुए बुधवार को कहा कि वर्तमान सरकार में विकास कार्य रुके पड़े हैं केवल नाम बदले जा रहे हैं। यहीं नहीं प्रदेश सरकार में सहयोगी दल के मंत्री भी नाम बदलने को लेकर अपनी ही सरकार पर निशाना साध रहे है।

अखिलेश यादव ने बुधवार (14 नवंबर) को शायराना अंदाज में ट्वीट करते हुए लिखा, “बंद पड़े हैं सारे काम, बिखरा पड़ा सब सामान तरक़्क़ी के रुके हैं रस्ते, बदल रहे हैं बस नाम”। बता दें कि अपने इस ट्वीट के साथ उन्होंने अधूरे पड़े कुछ विकास कार्यों की फोटो भी ट्विटर पर डाली है।

वहीं योगी आदित्यनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सहयोगी पार्टी भारतीय समाज पार्टी (सुहेलदेव) के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने नाम में बदलाव को लेकर योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि नाम बदलने को लेकर खर्च की जा रही धनराशि जन कल्याण से जुड़ी योजनाओं पर खर्च की जाती तो हालात बदल जाते।

योगी सरकार में दिव्यांगजन सशक्तिकरण मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने ट्वीट के जरिये योगी सरकार पर तीखा हमला किया। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “भारत देश गंगा जमुना तहजीब पर बना है। नाम, बदलने से अच्छा होता कि, जितना खर्च नाम बदलने मे हो रहा है, उतना खर्च करके शिक्षा, रोजगार, स्वास्थ्य, गरीबों के कल्याण मे तेजी लाई जाती तो भारत देश का नक्शा कुछ और होता।” राजभर ने ट्वीट के अंत में लिखा, ”दिवाली में अली बसे, राम बसे रमजान, ऐसा होना चाहिए अपना हिन्दुस्तान”।

बता दें कि ओम प्रकाश राजभर पहले भी बीजेपी पर निशाना साधते रहे हैं। इससे पहले भी कई मौकों पर वह यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बीजेपी की आलोचना कर चुके हैं। उन्होंने फैजाबाद और इलाहाबाद का नाम बदले जाने की कड़ी आलोचना करते हुए आज कहा कि सत्‍तारूढ़ भाजपा को अपने प्रमुख मुस्लिम नेताओं के नाम भी बदल देने चाहिये।

बता दें कि फैजाबाद से पहले ही यूपी की योगी सरकार कई स्थानों के नाम बदल चुकी है। इससे पहले इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज और मुगलसराय जंक्शन का नाम पं. दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन कर चुकी है। यूपी के अलावा अन्य राज्यों में भी नाम बदलने की कवायद शुरू हो गई है।

बीजेपी शासित राज्य गुजरात में भी अहमदाबाद का नाम बदलने की कोशिशें तेज हो गई हैं। मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के नेतृत्व वाली गुजरात सरकार अहमदाबाद शहर के नाम को बदलने पर विचार कर रही है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here