योगेंद्र यादव के ‘फर्जी’ सर्वेक्षण पर उठे सवाल, सफाई दी

0

आम आदमी पार्टी (आप) के पूर्व नेता और स्वराज अभियान के संयोजक योगेंद्र यादव द्वारा बुंदेलखंड के बुरे हालात को लेकर कराए गए सर्वेक्षण पर सवाल उठने लगे हैं। सोशल मीडिया पर लगातार सवाल उठ रहे हैं। फर्जी सर्वे के जरिए हालात को ज्यादा भयावह दिखाने के आरोप के बीच यादव ने सर्वे को लेकर सफाई दी है।

योगेंद्र यादव ने कहा है कि सवालों पर लोगों का स्वस्थ बहस के लिए स्वागत है। सर्वे का उद्देश्य ही यही था कि राज्य में सूखे से पैदा हुई गंभीर स्थिति के बारे में चर्चा शुरू हो। उन्होंने आगे स्पष्ट कर कहा कि यह सर्वेक्षण वैज्ञानिक पद्धति से किया गया था। जो तथ्य सामने आए हैं, वह बहुत दुखद हैं और गहरे संकट की ओर इशारा करते हैं।

उन्होंने कहा कि यह काम मीडिया का है कि वह उत्तरदाताओं की स्वतंत्र पुष्टि करे। यादव ने कहा, “हमारी उम्मीद है कि इन आंकड़ों के आधार पर आगे छानबीन होगी और हमें मिले इन उत्तरों की स्वतंत्र जांच की जा सकेगी।”

उन्होंने आधे बुंदेलखंड में ही सर्वे कराने के आरोप का सोशल मीडिया पर जवाब देते हुए कहा कि पूरे बुंदलेखंड में सर्वे कराया गया है। कोई भी हिस्सा छोड़ा नहीं गया है।

वहीं, इस मामले में बुंदेलखंड के सामाजिक कार्यकर्ता आशीष सागर का कहना है कि सर्वे के लिए टीम गांवों में गई ही नहीं हैं। वैसे भी रिपोर्ट में ‘घास की रोटी’ का जिक्र आया है, मगर वह घास नहीं है।

उन्होंने कहा कि रिपोर्ट में जिसे घास कहा गया है, बुंदेलखंड में उसे मोटा अनाज कहते हैं। इससे पेट साफ हो जाता है। योगेंद्र यादव को भी इसे खाना चाहिए।

आशीष ने आरोप लगाया कि बुंदेलखंड के चित्रकूट-बांदा मंडल में सर्वे हुआ ही नहीं है। ये रिपोर्ट फर्जी है। उन्होंने इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को इस संबंध में पत्र लिखा है।

योगेंद्र यादव ने हाल ही में सूखे के बाद से बिगड़े हालात पर एक सर्वे किया था। सर्वे में बताया गया कि पिछले एक महीने में एक औसत परिवार ने सिर्फ 13 दिन ही सब्जी खाई। दाल तो थाली से गायब ही हो गई। सामान्य परिवार भी महीने में सिर्फ चार दिन ही दाल खा रहे हैं, जबकि बिल्कुल गरीब परिवार के लोगों ने पूरे महीने में एक बार भी दाल नहीं खाई।

सर्वे में दावा किया गया कि कुपोषण और भुखमरी जैसे हालात पिछले आठ महीनों में रबी की फसल खराब होने के बाद पैदा हुए हैं। बुंदेलखंड के 79 फीसदी परिवार पिछले कुछ महीने में कभी न कभी रोटी या चावल को सिर्फ नमक-चटनी के साथ खाने को मजबूर हुए हैं। 108 में से 41 गांवों में पिछली होली के बाद से भुखमरी या कुपोषण से मौत की जानकारी भी मिली। हालांकि, इसकी स्वतंत्र पुष्टि नहीं हो सकी।

कहा गया है कि एक तिहाई से ज्यादा परिवारों को खाना मांगना पड़ा। 22 फीसदी बच्चों की पढ़ाई छूट गई। 27 फीसदी को जमीन और 24 फीसदी को जेवर बेचने या गिरवी रखने पड़े हैं।

कहां और कैसे हुआ सर्वे :

योगेंद्र यादव ने बुंदेलखंड की 27 तहसीलों के 108 गांवों में यह सर्वे किया है। सर्वे में 1206 परिवारों को शामिल शामिल किया गया। इनमें बेहद गरीब और निचले पायदान पर मौजूद 399 परिवारों से आंकड़े जुटाए गए। सर्वे स्वराज अभियान और बुंदेलखंड आपदा राहत मंच के कार्यकतार्ओं ने किया। इसमें बुंदेलखंड की संस्था परमार्थ के संजय सिंह, रांची के अर्थशास्त्री ज्यांद्रेज और दिल्ली की रीतिका खेड़ा ने सहयोग किया।

LEAVE A REPLY