केरल की मंत्री ने योग समारोह में श्लोक के उच्चारण पर उठाये सवाल

0

अन्तर्राष्ष्ट्रीय के मौके पर केरल में भी कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। लेकिन स्वास्थ्य मंत्री और माकपा की वरिष्ठ नेता के. शैलजा ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के सरकारी समारोह में ‘संस्कृत श्लोक’ को शामिल किए जाने पर चिंता जताया है। सेंट्रल स्टेडियम में आयोजित राज्य स्तर के योग समारोह में शिरकत करते हुए मंत्री ने अधिकारियों से पूछा कि क्या ‘श्लोक’ को समारोह में शामिल किया जाना जरूरी था।

Also Read:  मुझसे गुजरात के लोगों ने कहा, जब भी मोदी जी किसी मुद्दे पर फँस जाते हैं तो रोने का नाटक करते हैं- केजरीवाल

भाषा की खबर के अनुसार उन्होंने कहा, ‘हमारा देश एक धर्मनिरपेक्ष देश है। योग अभ्‍यास शुरू करने से पहले हर धार्मिक समुदाय अपनी खुद की प्रार्थनाएं कर सकता है। जो लोग किसी धर्म को नहीं मानते हैं, उनके भी ध्यान केंद्रित करने के अपने तरीके होते हैं।’ उन्होंने कहा कि ऐसे समारोह में सभी के बीच स्वीकार्य प्रार्थना को शामिल किया जा सकता था।

Also Read:  NDA की बैठक में प्रस्ताव पास, PM मोदी के नेतृत्व में ही 2019 में लड़ा जाएगा चुनाव

इस मुद्दे से विवाद पैदा होने के बाद भाजपा ने शैलजा की आलोचना की तो मंत्री ने मीडिया के समक्ष अपनी राय स्पष्ट करते हुए कहा कि उन्होंने सिर्फ अपना संशय प्रकट किया है कि जिस सार्वजनिक समारोह में कई धर्मों के लोग हिस्सा ले रहे हों, क्या उसमें ‘श्लोक’ को शामिल करना जरूरी था। उन्होंने इन खबरों को खारिज कर दिया कि उन्होंने कार्यक्रम में ‘श्लोक’ शामिल करने के लिए अधिकारियों से स्पष्टीकरण मांगा है।

Also Read:  बैंगलोर में 4 दिन के बच्चे का अपहरण

भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष कुम्मानम राजशेखरन ने इस मुद्दे पर शैलजा की आलोचना करते हुए कहा कि उनका यह कृत्य ‘निंदनीय’ है और उन्हें ‘वास्तविकता को स्वीकार करते हुए’ योग करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here