कर्नाटक विधानसभा चुनाव: येदियुरप्पा बोले- 150 सीटों के साथ 17 को बनाऊंगा सरकार, सिद्धारमैया ने बताया ‘दिमागी रूप से बीमार’

0

लगभग तीन माह तक चले धुआंधार प्रचार के बाद कर्नाटक की 224 में से 222 विधानसभा सीटों पर शनिवार (12 मई) सुबह से मतदान जारी है। सुबह से पोलिंग बूथों पर मतदान के लिए लोगों की भीड़ दिख रही है। कांग्रेस, बीजेपी और जद (एस) के बीच हो रहे त्रिकोणीय चुनावी मुकाबले में दोपहर तीन बजे तक करीब 56 प्रतिशत मतदान हुआ है। सत्ता के तीन बड़े दावेदारों मुख्यमंत्री सिद्धरमैया, पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा और जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी की किस्मत का फैसला ईवीएम में बंद हो जाएगा।

बता दें कि 224 विधानसभा सीटों वाले राज्य में 2 सीटों पर मतदान स्थगित कर दिया गया है। निर्वाचन आयोग ने प्रदेश के राजाराजेश्वरी नगर विधानसभा सीट पर चुनाव टाल दिया है, क्योंकि क्षेत्र में एक अपार्टमेंट से बड़ी तादाद में मतदाता पहचान पत्र बरामद हुए थे। इस सीट पर अब 28 मई को मतदान कराया जाएगा। इसके अलावा बीजेपी उम्मीदवार तथा निवर्तमान विधायक बी एन विजय कुमार के निधन के कारण बेंगलुरू के जयनगरा विधानसभा सीट पर मतदान नहीं हो रहा है।

येदियुरप्पा और सिद्धारमैया के बीच जुबानी जंग

इस बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और बीजेपी के सीएम कैंडिडेट बीएस येदियुरप्पा के बीच जुबानी जंग शुरू हो गया है। दरअसल, कर्नाटक में बीजेपी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार येदियुरप्पा ने शनिवार (12 मई) को कहा कि हमें राज्य में 150 से ज्यादा सीटें मिलेंगी और मैं 17 मई को सरकार बनाने जा रहा हूं। वहीं, येदियुरप्पा के इस दावों पर मौजूदा मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने सवाल उठाया है। सिद्धारमैया का कहना है कि येदियुरप्पा दिमागी रूप से बीमार हैं और 150 विधानसभा सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं।

येदियुरप्पा ने  शिमोगा के शिकारपुर में वोट डालने के बाद कहा, ‘आज बहुत महत्वपूर्ण दिन है। हमें राज्य में 150 से ज्यादा सीटें मिलेंगी और मैं 17 मई को सरकार बनाने जा रहा हूं। लोग घर से बहार निकलें और बड़ी संख्या में मतदान करें।’ उन्होंने आगे कहा कि राज्य की जनता सिद्धारमैया सरकार से ऊब चुकी है। मैं कर्नाटक के लोगों को भरोसा दिलाता हूं कि मैं राज्य में सुशासन देने जा रहा हूं। इससे पहले बीएस येदियुरप्पा ने मतदान शुरू होने से पूर्व अपने घर में पूजा अर्चना की।

वहीं, सिद्धारमैया ने दावा किया है कि कर्नाटक में एक बार फिर से कांग्रेस सत्ता में आएगी और बहुमत से आएगी। कांग्रेस 120 सीटें जीतेगी और उनकी खुद की दो सीटों (बादामी और चामुंडेश्वरी) पर जीत तय है। जब उनसे यह पूछा गया कि क्या वह चुनाव को लेकर नर्वस हैं, उन्होंने कहा कि क्या किसी को ऐसा लगता है। वह पूरी तरह स्वस्थ हैं और चुनाव जीतने को लेकर आश्वस्त भी।

इसके अलावा येदियुरप्पा के दावों पर सिद्धारमैया ने कहा, ‘दिमागी रूप से बीमार हैं येदियुरप्पा, मुझे पूरा विश्वास है कि कांग्रेस को 120 सीटें मिलेंगी।’ उधर, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी कहा है कि हमें खुदपर विश्वास है। बीजेपी 60-70 से ज्यादा सीटें जीत नहीं पाएगी, 150 मिलना तो भूल ही जाए। वह (येदियुरप्पा) सिर्फ सरकार बनाने का सपना देख रहे हैं।

बता दें कि बीजेपी ने सिर्फ एक बार 2008 से 2013 तक कर्नाटक में शासन किया था। बीजेपी ने 2008 में 110 सीटें जीती थीं। जबकि कांग्रेस ने 80, जेडीएस ने 28 और अन्य ने 6 सीटें जीती थीं। प्रदेश में विधानसभा चुनावों के लिए 200 महिलाओं समेत कुल 2600 उम्मीदवार मैदान में है। प्रदेश के 2018 के मतदाता सूची के अनुसार राज्य में कुल पांच करोड़ छह लाख 90 हजार से अधिक मतदाता हैं जिनमें दो करोड़ 56 लाख 75 हजार से अधिक पुरूष मतदाता जबकि दो करोड़ 50 लाख नौ हजार से अधिक महिला मतदाता हैं। प्रदेश में पांच हजार से अधिक ट्रांसजेंडर मतदाता हैं।

अधिकारियों ने बताया कि पूरे प्रदेश में 58 हजार से अधिक मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इनमें से 12002 मतदान केंद्र ‘‘संवेदनशील’’ हैं, जहां साढे तीन लाख मतदानकर्मियों को तैनात किया गया है। मतदान के लिए विस्तृत सुरक्षा व्यवस्था की गई है। यह शाम छह बजे तक चलेगा। मतों की गिनती 15 मई को होगी। प्रदेश में 1985 के बाद से कोई भी दल लगातार दूसरी बार सत्ता में नहीं आ पाया है। उस साल रामकृष्ण हेगड़े की अगुवाई में जनता दल फिर सत्ता पर काबिज हुआ था।

कांग्रेस, पंजाब के बाद एकमात्र बड़े राज्य पर काबिज रहने के लक्ष्य पर केंद्रित है, जबकि बीजेपी कर्नाटक में अपनी सरकार बनाने के लिए जुटी हुई है। सिद्धरमैया समेत चार वर्तमान एवं पूर्व मुख्यमंत्री चुनाव मैदान में हैं। येद्दियुरप्पा शिकारीपुरा से, कुमारस्वामी चेन्नापटना और रमनगारा से तथा बीजेपी के जगदीश शेट्टार हुबली धारवाड़ से चुनाव मैदान में ताल ठोक रहे हैं।

वर्ष 2013 के चुनाव में कांग्रेस को 122 सीटें जीती थीं। बीजेपी और जदएस को 40-40 सीटें मिली थीं। कर्नाटक जनता पक्ष को छह, बडवारा श्रमिकारा रैयतरा को चार, कर्नाटक मक्कल पक्ष, समाजवादी पार्टी और सर्वोदय कर्नाटक पक्ष को एक एक सीटें मिली थीं और नौ निर्दलीय विजयी रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here