राफेल डील: यशवंत सिन्हा, प्रशांत भूषण और अरुण शौरी ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की पुनर्विचार याचिका

0

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी तथा वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने राफेल मुद्दे पर 14 दिसंबर को आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार के लिए बुधवार (2 जनवरी) को शीर्ष अदालत में याचिका दायर की। न्यायालय ने अपने 14 दिसंबर के फैसले में फ्रांस से 36 राफेल विमानों की खरीदी प्रक्रिया में गड़बड़ी का आरोप लगाने वाली सभी जनहित याचिकाओं को खारिज कर दिया था।

फाइल फोटो: पीटीआई

पुनर्विचार याचिका में तीनों ने आरोप लगाया है कि फैसला ‘‘सरकार की ओर से सीलबंद लिफाफे में सौंपे गए बिना हस्ताक्षर के नोट में स्पष्ट रूप से गलत दावों पर आधारित था।’’ उन्होंने याचिका पर सुनवाई खुली अदालत में करने का अनुरोध भी किया है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 14 दिसंबर, 2018 के अपने फैसले में 36 राफेल विमानों की खरीद के लिए भारत और फ्रांस के बीच हुए सौदे को चुनौती देने वाली सभी याचिकाओं को खारिज करते हुए कहा था कि ‘‘निर्णय लेने की प्रक्रिया पर ऐसा कोई संदेह उत्पन्न’’ नहीं होता है जिसके कारण इस सौदे को रद्द किया जा सके।

शीर्ष अदालत ने 58,000 करोड़ रुपये के इस सौदे में अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज करने और अदालत की निगरानी में जांच कराने की मांग करने वाली सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया था। यह सौदा भारत और फ्रांस की सरकारों के बीच हुआ है।

केंद्र सरकार ने 15 दिसंबर, 2018 को एक आवेदन देकर राफेल सौदे पर आए फैसले के एक पैराग्राफ में बदलाव करने का अनुरोध शीर्ष अदालत से किया था। उस पैराग्राफ में भारत के नियन्त्रक एवं महालेखापरीक्षक (कैग) और संसद की लोक लेखा समिति (पीएसी) का हवाला दिया गया था।

शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में यह लिखा था कि राफेल विमानों की कीमत संबंधी जानकारी कैग के साझा की गई है और कैग की रिपोर्ट को पीएसी ने जांचा है। कैग और पीएसी का नाम न्यायालय के फैसले के 254वें पैराग्राफ में था। शीर्ष अदालत ने कहा था कि फ्रांस से लड़ाकू विमानों की खरीद में कोई अनियमितता नहीं हुई है।

फैसले में कहा गया है कि न्यायालय के समक्ष पेश दस्तावेजों से स्पष्ट है कि केन्द्र ने राफेल लड़ाकू विमानों की कीमत का खुलासा संसद में नहीं किया है लेकिन, इसकी जानकारी कैग को दी गई है। फैसले के बाद कांग्रेस नेता और पीएसी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा था कि उनके पास ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं आयी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here