आमिर खान के ‘गुरु’ को भारी पड़ा भारतीय कुश्ती संघ की तुलना ‘खच्चर’ से करना, फेडरेशन ने थमाया नोटिस

0

सुपरहिट फिल्म ‘दंगल’ में बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट यानि आमिर खान को कुश्ती के दांव सिखाने वाले पहलवान कृपाशंकर पटेल सोशल मीडिया पर बेबाक टिप्पणी कर फंस गए हैं। 40 साल के कृपाशंकर ने सोशल मीडिया पर भारतीय कुश्ती संघ (डब्ल्यूएफआई) की तुलना ‘खच्चर’ से कर डाली थी। इस पर फेडरेशन ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया।

(HT File Photo)

मामला बढ़ने के बाद अजरुन पुरस्कार विजेता पूर्व पहलवान और मौजूदा कोच ने गुरुवार(14 सितंबर) को कहा कि उन्होंने भारतीय कुश्ती के हित में फेसबुक पर यह पोस्ट लिखी थी जिसे जबरन तूल दिया गया। पटेल के पोस्ट पर डब्ल्यूएफआई ने सख्त रवैया अपनाया और उन्हें नोटिस जारी करके सात दिन के अंदर जवाब मांगा है।

साथ ही डब्ल्यूएफआई ने उनसे पूछा कि क्यों न उन पर छह साल की पाबंदी लगा दी जाए। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पटेल ने डब्ल्यूएफआई का नोटिस मिलने की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि मैंने इसका जवाब नहीं दिया है। मैंने सोशल मीडिया पर जो कुछ कहा है, वह भारतीय कुश्ती के हित में कहा था। फिर भी मेरी पोस्ट से किसी को बुरा लगा हो, तो मैं माफी चाहता हूं।

फेसबुक पर विवादित टिप्पणी

कुश्ती कोच ने 12 सितंबर को फेसबुक पोस्ट में कहा था कि कुश्ती के अंतरराष्ट्रीय संगठन यूनाइटेड वल्र्ड रेसलिंग ने कुश्ती के नियमों में कई महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं, लेकिन डब्ल्यूएफआई ने इस सिलसिले में ‘आधे-अधूरे’ और ‘अधकचरे’ नियमों को लागू किया है।

पटेल ने पोस्ट में आगे लिखा, भारतीय कुश्ती संघ ने फैसला लिया कि राष्ट्रीय सीनियर कुश्ती प्रतियोगिता इंदौर में 15 से 18 नवंबर तक होगी। उसमें (यूनाइटेड वल्र्ड रेसलिंग के नए नियमों के मुताबिक) सिर्फ 10 नए वजन वर्ग को जोड़ा जाएगा। सभी नियम लागू नहीं होंगे। यह कुश्ती के लिए कितने फायदेमंद होगा, यह तो बड़े पहलवान जैसे सुशील, योगेश्वर, साक्षी ही बता सकते हैं।

खच्चर से की तुलना

पटेल ने अपनी पोस्ट में आगे लिखा, क्या आपको पता है गुजरात के कच्छ के रण में एक अनोखा प्राणी पाया जाता है, जो न तो गधा है और न घोड़ा। यह दोनों के बीच का खच्चर होता है। जी हां, भारतीय कुश्ती संघ ने भी कुछ इसी तरह (खच्चर जैसा) का फैसला कुश्ती के नियमों पर किया है।

फेडरेशन ने थमाया नोटिस

बहरहाल, डब्ल्यूएफआई ने पटेल को उनकी फेसबुक पोस्ट के अगले ही दिन यानी 13 सितंबर को नोटिस भेज दिया। इसमें डब्ल्यूएफआई के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय प्रतियोगिता को 10 नए वजनों में कराने का फैसला पहलवानों के हित में लिया गया है। यह कोई खच्चर वाला फैसला नहीं है। चूंकि आगामी 2017 राष्ट्रमंडल कुश्ती प्रतियोगिता इन्हीं भार वर्गो में होनी है, इसी को ध्यान में रखकर यह फैसला लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here