शर्मनाक: 9 महीने की बेटी का शव लेकर मेट्रो से गुड़गांव और दिल्ली के अस्पतालों में भटकती रही गैंगरेप पीड़िता

0

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में स्थित गुरुग्राम (गुड़गांव) में एक महिला के साथ तीन लोगों ने कथित तौर पर बलात्कार किया और एक ऑटोरिक्शा से पीड़िता की नौ महीने की बेटी को बाहर फेंक दिया, जिससे उस मासूम की मौत हो गई। इससे भी बेहद दुखद बात यह है कि पीड़ित महिला को बलात्कार के बाद अपनी मरी हुई बच्ची को गोद में लेकर मेट्रो से सफर करना पड़ा।sexualमीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नौ माह की बच्ची की मौत के बाद पीड़िता उसे लेकर गुरुग्राम के निजी अस्पताल में गई थी। इसके बाद डॉक्टरों ने उसे दूसरी जगह भेज दिया। जिसके बाद पीड़िता ने बच्ची के शव को लेकर मेट्रो में बैठकर गुरुग्राम से दिल्ली गई थी। महिला ने बताया कि वह अपनी बच्ची का शव लेकर करीब सात घंटे तक एक अस्तपाल से दूसरे अस्पताल में भटकती रही। अगर उसे समय से इलाज मिलता तो वह बच सकती थी।

बता दें कि 23 वर्षीय महिला के हवाले से पुलिस ने मंगलवार(6 जून) को बताया कि अपने पति के साथ तकरार के बाद 29 मई को करीब मध्यरात्रि में वह अपनी बेटी के साथ खांडसा गांव में अपने माता-पिता के घर जा रही थी। उसी दौरान पीड़िता ने एक ऑटोरिक्शा में लिफ्ट लिया, जिसमें पहले से ही तीन लोग बैठे हुये थे।

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि जैसे ही वह वाहन में बैठी आरोपियों ने उसके साथ छेड़खानी शुरू कर दी। महिला ने विरोध किया और उसकी बेटी ने रोना शुरू कर दिया, जिस पर आरोपियों ने बच्ची को वाहन से बाहर फेंक दिया। मासूम बच्ची घायल होकर रास्ते में ही तड़पती रही और आरोपियों ने महिला के साथ गैंगरेप को अंजाम दिया। गुड़गांव के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि चोट लगने के कारण बच्ची की मौत हो गई।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, इसके बाद रात के अंधेरे में 2 बजे जब दरिंदे फरार हो गए तब वहां ऐसा कोई भी नहीं दिखा जिससे पीड़िता मदद मांग सके। महिला ने अपनी बेजान 9 साल की बच्ची को बाहों में भरे सुबह होने का इंतजार किया। सुबह महिला को अपने ससुरालवालों के पास ओल्ड गुरुग्राम जाने के लिए एक ऑटो मिला।

यहीं एक स्थानीय डॉक्टर ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया, लेकिन महिला को डॉक्टर पर यकीन नहीं हुआ। जिसके बाद वह अपने ससुर के साथ तुगलकाबाद के लिए निकली, जहां उसके माता-पिता रहते हैं। दोनों दिल्ली मेट्रो में सवार हुए और दूसरे डॉक्टर के पास पहुंचे, दूसरे डॉक्टर ने भी मासूम को मृत करार दिया।

डॉक्टर द्वारा मौत की पुष्टि किए जाने के बाद महिला एक बार फिर मासूम के शव को लेकर मेट्रो से ही गुरुग्राम वापस आई, ताकि पुलिस में शिकायत दर्ज करा सके। वह एमजी रोड मेट्रो स्टेशन पर उतरी जहां, पीड़ित महिला का पति और पुलिस इंतजार कर रहे थे।

महिला आईएमटी मानेसर के पास के एक गांव की रहने वाली है। पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या और रेप का मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। हालांकि, पुलिस को अभी तक आरोपियों का कोई सुराग नहीं मिला है। मामले में एसआईटी का गठन किया गया है। मामले में लापरवाही मिलने पर एक महिला पुलिस इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here