जानिए क्यों टीना डाबी खान से की जा रही कनिष्क कटारिया की तुलना, IAS टॉपर को SC-ST बैकग्राउंड की वजह से बनाया जा रहा निशाना

0

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की सिविल सेवा परीक्षा 2018 का रिजल्ट जारी हो गया है। आईआईटी बॉम्बे से बीटेक की पढ़ाई करने वाले कनिष्क कटारिया ने सिविल सेवा परीक्षा में शीर्ष स्थान हासिल किया है। वहीं, सृष्टि जयंत देशमुख महिला अभ्यर्थियों में शीर्ष पर रहीं जबकि सम्मिलित सूची में वह पांचवें पायदान पर रहीं। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने शुक्रवार को सिविल सेवा परीक्षा 2018 के परिणाम घोषित किए।

कनिष्क कटारिया ने आईआईटी बांबे से बीटेक किया है। वो एससी कटेगरी में आते हैं। उन्होंने इस परीक्षा में गणित विषय चुना था। यह उनका पसंदीदा विषय है। ANI से बातचीत में कनिष्क कटारिया ने कहा कि यह बहुत ही आश्चर्यजनक क्षण है। मुझे उम्मीद नहीं थी कि मैं पहली रैंक हासिल करूंगा। मैं अपने माता-पिता, बहन और प्रेमिका को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने मुझे नैतिक समर्थन दिया।

इस बीच आईएएस टॉपर कटारिया को सामान्य वर्ग के माध्यम से नहीं जाने और अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति छात्रों के लिए आरक्षित कोटा छोड़ने के लिए लगातार ट्रोलिंग का सामना करना पड़ रहा है। सोशल मीडिया पर उनके आलोचकों द्वारा टॉपर कटारिया और तीन साल पहले आईएएस टॉपर रहीं टीना डाबी खान के बीच एक तुलना करना शुरू कर दिया है।

बता दें कि इससे पहले 2016 में दिल्ली की टीना डाबी खान के असाधारण प्रदर्शन के कारण उन्हें भी कोटा प्रणाली का दुरुपयोग करने के लिए काफी ट्रोलिंग और आलोचना का सामना करना पड़ा, क्योंकि वह आर्थिक रूप से विशेषाधिकार प्राप्त होने के बावजूद आरक्षित श्रेणी के तहत प्रतिष्ठित यूपीएससी परीक्षाओं के लिए उपस्थित हुई थी। हालांकि, तीन साल बाद अब नए आईएएस टॉपर कनिष्क कटारिया ने खुद को एक समान स्थिति में रखा है।

वहीं, कई लोगों ने कनिष्क की उपलब्धि की सराहना करते हुए उनकी आलोचना किए जाने की निंदा की है। लोगों का कहना है कि कई वर्षों से यूपीएससी के परिणाम में दलित और अल्पसंख्यक लगातार शीर्ष 10 में अपना नाम लाकर देश का नाम रोशन कर रहे हैं।

बता दें कि 2016 में आईएएस ऑफिसर टीना डाबी और आमिर उल शफी खान ने अपने करीबी दोस्तों और परिवारवालों की मौजूदगी में शादी कर ली। दोनों ने यूपीएससी के पेपर साथ में दिए थे। इस एग्जाम में टीना डाबी टॉपर रहीं और आमिर दूसरी पोजिशन पर आए। पति-पत्नी की जोड़ी फिलहाल राजस्थान के भीलवाड़ा जिले में एसडीएम स्तर पर काम कर रही है।

कनिष्क और टीना के बीच एक और समानता की चर्चा की जा रही है कि कैसे दोनों ने सार्वजनिक रूप से अपने प्यार का इजहार किया। बता दें कि कनिष्क ने माता-पिता के साथ अपनी प्रेमिका को भी धन्यवाद दिया है। वहीं, टीना ने हिंदुत्व संगठनों के विरोध के बावजूद, सार्वजनिक रूप से एक कश्मीरी मुस्लिम अतहर के लिए अपने प्यार का इजहार किया था। लगातार ट्रोलिंग से परेशान होकर टीना ने अपने नाम के आगे खान भी जोड़ लिया। टीना इस साल की टॉपरों को बधाई देने वाली पहली महिला थीं।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here