रेलवे का ‘यू-टर्न’, कहा- मुंबई-अहमदाबाद रूट में ट्रेनों में भरी रहती हैं 100 फीसदी सीटें

0

पश्चिम रेलवे (डब्ल्यूआर) ने यू-टर्न लेते हुए गुरुवार (2 नवंबर) को उन खबरों को खारिज कर दिया है, जिनमें कहा गया था कि मुंबई-अहमदाबाद रूट की सभी ट्रेनों में 40 प्रतिशत सीटें खाली रहती हैं। रेलवे ने दावा किया है कि इन ट्रेनों में 100 फीसदी से अधिक सीटें भरी रहती हैं।

सम्पर्क क्रांति एक्सप्रेस
प्रतिकात्मक फोटो

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर लिखा है कि मीडिया रिपोर्ट्स के विपरीत मुंबई-अहमदाबाद ट्रेन रूट पर चलने वाली ट्रेनों में यात्रियों की तादाद क्षमता से 100 फीसदी से भी अधिक होती है और बुलेट ट्रेन से इसे जबरदस्त लाभ पहुंचेगा। इसके साथ ही गोयल ने ट्विटर पर पश्चिम रेलवे का एक बयान भी पोस्ट किया है।

मीडिया रिपोर्टों को खारिज करते हुए एक बयान में पश्चिम रेलवे ने कहा है कि मुंबई और अहमदाबाद के बीच चलने वाली ट्रेनों में 40 फीसदी सीटें खाली रहने से जुड़ी रिपोर्ट पर वह स्पष्ट करना चाहता है कि इस रूट में बीते 3 महीने में पश्चिम रेलवे को 30 करोड़ रुपये का घाटा होने की बात में तथ्यात्मक सच्चाई नहीं है।

हकीकत यह है कि इस रूट में 100 फीसदी से अधिक सीटें भरी रहती हैं। न्यूज एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी (सीपीआरओ) रवींद्र भाकड़ ने कहा कि मीडिया रिपोर्ट्स के विपरीत उक्त 3 महीने में इस रूट से पश्चिम रेलवे की कुल कमाई 233 करोड़ रुपये रही।

क्या है मामला?

दरअसल, इससे पहले आरटीआई (सूचना का अधिकार) कार्यकर्ता अनिल गलगली ने सूचना के तहत प्राप्त जानकारी का हवाला दावा करते हुए कहा था कि पश्चिम रेलवे की वास्तविक कमाई और कमाई की संभावना में 29 करोड़ रुपये का फर्क है, क्योंकि मुंबई -अहमदाबाद रूट से गुजरने वाली ट्रेनों में 40 फीसदी सीटें खाली रहती हैं।

मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया था कि पश्चिम रेलवे ने बताया है कि इस क्षेत्र में पिछले तीन महीनों में 30 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है, यानी हर महीने 10 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। गलगली द्वारा पूछे गए सवाल कि दोनों शहरों के बीच की ट्रेनों की कितनी सीटें भरी होती हैं?

पश्चिम रेलवे ने बताया था कि पिछले तीन महीनों में मुंबई-अहमदाबाद क्षेत्र की सभी ट्रेनों में 40 फीसदी सीटें खाली रही हैं, जबकि मुंबई-अहमदाबाद के बीच चलने वाली ट्रेनों की 44 फीसदी सीटें खाली रही हैं। इसी रिपोर्ट के आधार पर कहा गया था कि मुंबई-अहमदाबाद के बीच चलाई जाने वाली बुलेट ट्रेन घाटे का सौदा साबित हो सकती है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here