कांग्रेस नेता का दावा, गोवा में बीजेपी को तोड़ना चाहते थे मनोहर पर्रिकर सरकार के मंत्री विश्वजीत राणे

0

कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव ए चेल्लाकुमार ने दावा किया है कि गोवा सरकार में मंत्री विश्वजीत राणे अगले साल लोकसभा चुनाव के बाद राज्य में सत्ताधारी गठबंधन को तोड़कर मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस में शामिल होना चाहते थे। कांग्रेस नेता ने दावा किया कि दो महीने पहले तक राणे इस मुद्दे पर उनके संपर्क में थे। वहीं, दूसरी ओर चेल्लाकुमार के इस दावे को विश्वजीत राणे ने सिरे से खारिज किया है।

गोवा
फाइल फोटो

बता दें कि चेल्लाकुमार का यह बयान ऐसे समय में आया है जब गोवा में कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। मंगलवार (16 अक्टूबर) को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात के बाद कांग्रेस के दो विधायक (दयानंद सोप्ते और सुभाष शिरोडकर) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले दोनों विधायक आज यानी मंगलवार को ही बीजेपी का दामन थाम सकते हैं।

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, कांग्रेस नेता चेल्लाकुमार ने सोमवार की रात पीटीआई-भाषा को फोन पर बताया, ‘सत्ताधारी पक्ष के कई लोग मेरे संपर्क में थे। हमारे दोस्त विश्वजीत राणे अक्सर मुझे फोन करते थे और उनमें डर था… उन्होंने दो महीने पहले भी मुझसे बात की थी।’ कांग्रेस नेता ने दावा किया कि राणे कहते थे कि वह कांग्रेसी हैं और हमेशा कांग्रेसी ही रहेंगे। वह ‘बीजेपी को तोड़ देंगे’ और कांग्रेस में वापस आ जाएंगे।

वहीं, दूसरी ओर इन दावों को खारिज करते हुए बीजेपी नेता विश्वजीत राणे ने कहा कि चेल्लाकुमार ‘हताश इंसान’ हैं, क्योंकि वह अपनी पार्टी के लोगों को एकजुट नहीं रख पा रहे। राणे ने कहा, ‘मेरा उनसे (चेल्लाकुमार से) कोई संपर्क नहीं है। उन्होंने (कांग्रेस ने) तो उच्चतम न्यायालय तक में मेरे खिलाफ (अयोग्यता का) केस कर रखा है। मेरी कोई दिलचस्पी नहीं है और मैंने कभी उनसे संपर्क नहीं किया। हालांकि, उन्होंने मुझसे संपर्क की कोशिश जरूर की।’

बता दें कि इस समय गोवा की 40 सदस्यों वाली विधानसभा में कांग्रेस के 16 विधायक हैं। ऐसे में अगर दोनों विधायक पार्टी से अलग होते हैं तो फिर यह संख्या घटकर 14 हो जाएगी। वहीं, बीजेपी के पास गोवा में 14 विधायक हैं। पर्रिकर सरकार को 23 विधायकों का समर्थन प्राप्त है। इनमें बीजेपी के 14, जीएफपी और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के तीन-तीन विधायक हैं, जबकि तीन विधायक निर्दलीय भी हैं।

बता दें कि मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के लंबे समय से अस्वस्थ होने की वजह से गोवा में राजनीतिक हलचल बढ़ गई है। यहां पर्रिकर के निजी आवास पर गोवा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के डॉक्टर उनका इलाज कर रहे हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here