ओडिशा: अस्पताल में नर्सों ने नवजात बच्चे को लेकर SNCU में बनाया TikTok वीडियो, स्वास्थ्य मंत्री ने मांगी रिपोर्ट

0

ओडिशा के मलकानगिरी के एक अस्पताल में नर्सों के समूह द्वारा बनाया गया एक टीक-टॉक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, जिससे राज्य की बीजद सरकार को शर्मिंदा का सामना करना पड़ रहा है। वहीं, इस मामले में अब ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री ने संज्ञान लिया है। उन्होंने जांच के आदेश देते हुए कहा कि अगर लापरवाही सामने आती है तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

ओडिशा

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नाबाकिशोर दास ने कहा कि, “मैंने इस टीक-टॉक वीडियो को लेकर विभाग से रिपोर्ट मांगी है, उनसे तथ्य पूछा है। वे मामले की जांच करेंगे। विभाग से रिपोर्ट मिलने के बाद मैं कानून के अनुसार उचित कार्रवाई करूंगा।”

दरअसल, सोशल मीडिया ऐप टिक-टॉक पर जिला अस्पताल के विशेष नवजात शिशु देखभाल इकाई (एसएनसीयू) के अंदर नर्सों का एक वीडियो वायरल हुआ था। जिसमें अस्पताल की नर्सें एक नए जन्मे बच्चे को गोद में उठाकर टिक-टॉक वीडियो बना रही है। वीडियो में बैकग्राउंड में हिंदी इमोशनल गाना बज रहा है और ये नर्स बच्चे को हाथ में उठाकर वीडियो शूट कर रही हैं।

आरोप है कि इन लोगों ने अपने वीडियो के लिए अस्पताल में भर्ती नवजात के इस्तेमाल से भी परहेज नहीं किया। वीडियो में ये सभी नर्स अपनी आधिकारिक पोशाक में एसएनसीयू के भीतर गाते, नाचते और मस्ती करती हुई दिखाई दे रही हैं। एसएनसीयू के अंदर मौज मस्ती हो रही है, नर्सें फिल्मी गानें और डॉयलॉग भी बजा रही हैं। विडियो के पीछे अस्पताल के बेड पर बीमार बच्चे भी दिखाई दे रहे हैं।

सोशल मीडिया पर ये वीडियो वायरल होने के बाद मलकानगिरी अस्पताल की इन नर्सों को नोटिस भेजा गया है। साथ ही नोटिस का जवाब 48 घण्टे के अंदर देने के लिए कहा गया है। अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधिकारी, अजीत मोहंती ने कहा था कि नर्सों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है और 24 से 48 घंटो में जवाब देने के लिए कहा है।

एडीएमओ और अस्पताल के प्रभारी अधिकारी तपन कुमार डिंडा ने ओडिशा टीवी को बताया कि मामले की जांच की जा रही है और आवश्यक कार्रवाई के लिए जांच रिपोर्ट सौंपी जाएगी। डिंडा ने कहा, घटना के बारे में पता चलने के बाद मैंने मामले की जांच शुरू कर दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here