VIDEO: मीडियाकर्मियों पर फूटा गैंगस्टर विकास दुबे की पत्नी रिचा का गुस्सा, आपत्तिजनक भाषा का भी क‍िया इस्तेमाल

0

कुख्यात अपराधी एवं उत्तर प्रदेश के कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले का मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे शुक्रवार सुबह कानपुर के भौती इलाके में पुलिस मुठभेड़ मे मारा गया। शुक्रवार शाम को पोस्टमॉर्टम और अन्य औपचारिकताओं के बाद विकास दुबे का अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस दौरान विकास की पत्नी रिचा और मां को भी पुलिस लेकर पहुंची थी। अंतिम संस्कार के दौरान पत्नी रिचा दुबे की मीडिया से तीखी नोकझोंक हो गई। इस दौरान उसकी पत्नी ऋचा ने जमकर गाली-गालौच की, जिसका वीडियो अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

विकास दुबे

दरअसल, पति के अंतिम संस्कार में शामिल होने आई पत्नी ऋचा से जब मीडियाकर्मियों ने सवाल पूछने शुरू किए, तब उसने अपना आपा खो दिया। वह चिल्ला-चिल्लाकर कहने लगी कि जो हुआ सही हुआ। विकास की पत्नी से जब पूछा गया कि क्या पुलिस ने एनकाउंटर सही किया, तो उसने कहा, ‘हां, जिसने गलती की, उसे सजा मिलेगी।’ इसके बाद फिर उससे सवाल किया गया कि क्या आप मानती हैं कि आपके पति ने गलती की थी? इस पर ऋचा ने चिल्लाते हुए कहा, ‘हां, हां, हां…उसके साथ सही हुआ। यहां से चले जाओ।’

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भाग जाओ, जिसने जैसा सलूक किया है, उसको वैसा ही सबक सिखाऊंगी। वीडियो में दिख रहा है कि, वो मीडिया के सामने नहीं आई लेकिन रिचा दूर से ही मीडियाकर्मियों को भला-बुरा कहती रही। इस पूरे वाक्य का एक वीडियो भी सामने आया है, जो अब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।

गैंगस्टर विकास दुबे के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए सिर्फ कुछ करीबी लोगों को ही इजाजत दी गई थी। उसकी मां, पत्नी ऋचा और बेटा वहां मौजूद थे। इस दौरान बड़ी संख्या में पुलिसबल भी मौजूद रहा। शवदाह के अंदर किसी भी मीडियाकर्मी को जाने की इजाजत नहीं दी गई। वे कुछ दूरी से ही विकास की पत्नी ऋचा से सवाल पूछते रहे।

पुलिस के मुताबिक, गैंगस्टर विकास दुबे शुक्रवार सुबह उस समय मुठभेड़ में मारा गया जब उज्जैन से उसे लेकर कानपुर आ रही पुलिस की एक गाड़ी भऊती इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गई और उसने मौके से भाग जाने की कोशिश की। कानपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने बताया कि दुर्घटना में नवाबगंज थाने के एक निरीक्षक समेत चार पुलिसकर्मी जख्मी हो गए। दुबे को अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

बता दें कि, कानपुर के चौबेपुर इलाके के बिकरू गांव में तीन जुलाई को देर रात में बदमाशों पर दबिश देने गए पुलिस दल पर अपराधियों ने हमला कर दिया था जिसमें पुलिस उपाधीक्षक देवेंद्र मिश्रा समेत आठ पुलिसकर्मी मारे गए थे। विकास दुबे कानपुर कांड का मुख्य आरोपी था। दुबे से पहले उसके पांच कथित सहयोगी पुलिस के साथ अलग-अलग मुठभेड़ में मारे गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here