फैजाबाद के बाद अब अहमदाबाद का नाम बदलने की तैयारी, इस नाम पर गुजरात सरकार कर रही विचार

0

इस वक्त देश में विशेष तौर पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) शासित राज्यों में शहरों और सड़कों का नाम बदलने का दौर चल रहा है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इलाहाबाद का नाम प्रयागराज और फैजाबाद का नाम अयोध्या करने का फैसला लेने के बाद अब बीजेपी शासित राज्य गुजरात में भी अहमदाबाद का नाम बदलने की कोशिशें तेज हो गई हैं। दरअसल, मुख्यमंत्री विजय रुपाणी के नेतृत्व वाली गुजरात सरकार अहमदाबाद शहर के नाम को बदलने पर विचार कर रही है।

File Photo: PTI

अगर ऐसा संभव हुआ तो गुजरात का प्रसिद्ध अहमदाबाद शहर ‘कर्णावती’ के नाम से जाना जाएगा। दरअसल, माना जाता है कि कर्णावती अहमदाबाद का प्राचीन नाम है। गुजरात सरकार ने ऐलान किया कि यदि लोगों का समर्थन मिला और कोई कानूनी बाधा नहीं आई तो वह अहमदाबाद का नाम बदलकर कर्णावती करने के लिए तैयार है। गुजरात के डिप्टी सीएम नितिन भाई पटेल ने कहा था कि सरकार अहमदाबाद का नाम बदलने का विचार कर रही है।

इसके बाद गुरुवार (8 नवंबर) को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी इस पर मुहर लगा दी है। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने गुरुवार समाचार एजेंसी एएनआई को दिए अपने बयान में कहा कि अहमदाबाद का नाम कर्णावती करने के लिए लंबे समय से बातचीत और विचार चल रहा है। जिसके लिए राज्य सरकार कानूनी और अन्य पहलुओं को ध्यान में रखते हुए जरुरी कदम उठाएगा। आने वाले समय में हम इसके बारे में सोचेंगे।

आपको दें कि अहमदाबाद भारत का एकमात्र शहर है जिसे ‘विश्‍व विरासत’ का तमगा हासिल है। अगर ऐसा हुआ तो अहमदाबाद शहर का नाम कर्णावती हो जाएगा। आपको बता दें कि इससे पहले राज्‍य के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने भी कहा था कि अहमदाबाद के लोग कर्णावती नाम पसंद करते हैं। उन्होंने संकेत दिया था कि राज्य सरकार अहमदाबाद का नाम बदल सकती है। इसके लिए जरुरी प्रयास कर रही है।

पटेल ने कहा, ‘लंबे समय से ही अहमदाबाद का नाम बदलकर कर्णावती किए जाने की मांग उठ रही है। यदि कानूनी प्रक्रिया के लिए हमें लोगों की मदद मिली तो हम नाम बदलने के लिए तैयार हैं। अहमदाबाद के लोग कर्णावती नाम पसंद करेंगे। जब उचित समय आएगा तो हम नाम बदल देंगे।’

पीटीआई के मुताबिक, ऐतिहासिक दृष्टिकोण से देखें तो अहमदाबाद के आसपास का इलाका 11वीं सदी में बसना शुरू हुआ। उस समय इसे अशवाल कहा जाता था। चालुक्‍य शासक कर्ण ने अशवाल के भील शासक को युद्ध में हराकर साबरमती नदी के किनारे कर्णावती शहर को बसाया था। सुल्‍तान अहमद शाह ने 1411 ईस्‍वी में कर्णावती के पास एक नए शहर की नींव रखी और इसका नाम अहमदाबाद रखा। अहमद शाह ने यहां के चार संतों के नाम पर इस नए शहर का नाम अहमदाबाद रखा।

आपको बता दें कि देशभर में राम मंदिर के मुद्दे पर छिड़ी बहस के बीच मंगलवार को अयोध्या में दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या किए जाने की घोषणा की। इलाहाबाद का नाम बदल कर प्रयागराज करने के कुछ ही दिनों बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को घोषणा की कि फैजाबाद जिला अब से अयोध्या के नाम से जाना जाएगा। छोटी दिवाली पर भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान योगी ने अयोध्या को कई सौगातें दीं।

सीएम योगी ने अयोध्या में भगवान राम के नाम पर एक नया हवाई अड्डा और भगवान राम के पिता राजा दशरथ के नाम पर जिले में एक मेडिकल कॉलेज की स्थापना की भी घोषणा की। सीएम योगी ने फैजाबाद का नाम बदलने का ऐलान करते हुए कहा, ‘आज से अयोध्या के नाम से यह जनपद जाना जाएगा। यह (अयोध्या) हमारे आन, बान और शान की प्रतीक है। मुझे लगता है कि अयोध्या की पहचान मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम से है। अयोध्या के दीपोत्सव कार्यक्रम को दुनिया ने स्मरण किया है। अभी तो यह उदाहरण है। आज कोरिया गणराज्य आपके उत्सव में शामिल हुआ है।’

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here