लंदन: बुक लॉन्‍च में नजर आए विजय माल्‍या और भारतीय हाई कमिश्‍नर तो शुरू हुआ बवाल

0

मुम्बई की एक अदालत द्वारा धनशोधन के मामले मे भगोड़ा अपराधी घोषित और भारत में वांछित शराब कारोबारी विजय माल्या को 16 जून को लंदन स्कूल ऑफ इकोनोमिक्स (LSE) में सुहेल सेठ की एक पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में देखा गया, जहाँ भारतीय उच्चायुक्त नवतेज सरना ने भी शिरकत की थी।
images-2

ट्विटर पर जब पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी ने इसका खुलासा किया तो घटनाक्रम को लेकर भारत में खासी बेचैनी फैल गई।

विदेश मंत्रालय के एक बयान में कहा गया कि भारतीय उच्चायुक्त नवतेज सरना वहां बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित थे लेकिन ये सरकारी कार्यक्रम नही था।।

टेलीविजन चैनलों पर एक कार्यक्रम में सरना और माल्या के मौजूद होने की तस्वीरें प्रसारित होने के बाद अब ऐसे कार्यक्रम में उच्चायुक्त की उपस्थिति पर सवाल उठाया जाना स्वाभाविक था।

Also Read:  29 अक्टूबर को होगी हरभजन और बसरा की शादी

ये इस लिए कि इस समारोह मे एक ऐसा व्यक्ति मौजूद था जो भारत में प्रवर्तन एजेसियों द्वारा वांछित है।

PTI भाषा की खबर के अनुसार सेठ ने दावा किया कि LSE में यह खुला कार्यक्रम था जहां खुले निमंत्रण की वजह से कोई भी पहुंच सकता था। लेकिन जल्द ही उनके इस दावे की पोल खुल गई जब सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर निमंत्रण पत्र की कापी सामने आई जिसमे साफ लिखा था कि समारोह मे शामिल होने केलिए आयोजकों को सुचित करना अनिवार्य था।

Also Read:  भाजपा में जो जितना ओछा, वह उतना ऊंचा : लालू

विदेश मंत्रालय भी हरकत में आ गया है और उसने एक बयान जारी कर कहा कि माल्या के नजर आने के बाद सरना संवाद सत्र का इंतजार किए बगैर वहां से उठकर चले गए।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “जब उच्चायुक्त को दर्शकों में माल्या नजर आए तब वह अपना बयान देने के तत्काल बाद मंच से उठे और चले गए। उन्होंने संवाद सत्र का इंतजार भी नहीं किया।’ विदेश मंत्रालय ने कहा कि एलएसई कार्यक्रम के ‘दो हिस्से थे’, पहला ब्रिटिश मंत्री जो जॉनसन द्वारा पुस्तक विमोचन और दूसरा परिचर्चा। बाद में उच्चायोग में चुनिंदा अतिथियों के लिए स्वागत समारोह था।”

Also Read:  गोरखपुर हादसा: बच्चों के लिए ‘मसीहा’ बने डॉ. कफील खान को हटाए जाने पर एम्स के डॉक्टर्स एसोसिएशन ने की निंदा

बयान मे आगे कहा गया, “उच्चायोग के रिसेप्शन के लिए निमंत्रण दिया गया था और आमंत्रितों की सूची में माल्या का नाम नहीं था।”

दरअसल सेठ वित्त मंत्री अरुण जेटली के नज़दीकी माने जाते हैं और उनके मंत्रालय के अन्तर्गत आने वाला प्रवर्तन विभाग माल्या के  खिलाफ 9000 करोड़ रुपए के बैंक कर्ज को न चुकाने के मामले की जांच कर रहा है।

खबर ये भी है कि समारोह के एक दिन पहले सेठ मालया से लंदन स्थित उनके महलनुमा घर पर मिले थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here