ब्रिटिश अदालत को भारत ने मुंबई जेल का दिखाया वीडियो, विजय माल्या को मिलने वाली सुविधाओं के बारे में दी जानकारी

1

भारतीय जांच अधिकारियों ने ब्रिटिश कोर्ट को मुंबई के आर्थर रोड स्थित केंद्रीय कारागार में मौजूद सुविधाओं के बारे में एक वीडियो दिखाया है। दरअसल, भारत प्रत्यर्पित किए जाने के खिलाफ भारतीय बैंकों के करीब 9000 करोड़ लेकर फरार हुए शराब कारोबारी विजय माल्या की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने भारत सरकार से जेल का वीडियो मुहैया कराने का आदेश दिया था। दरअसल, प्रत्यर्पण होने की स्थिति में माल्या को मुंबई के आर्थर रोड स्थित केंद्रीय कारागार में रखा जाएगा।

विजय माल्या
File Photo: Reuters

NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत द्वारा ब्रिटिश कोर्ट को बताया गया है कि मुंबई के आर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 में एक टेलीविजन सेट, व्यक्तिगत शौचालय, बिस्तर, एक वाशिंग एरिया और सूरज की रोशनी में टहलने के लिए एक आंगन सहित मुख्य सुविधाए उपलब्ध है। लंदन कोर्ट से पहले इन सुविधाओं का 6-8 मिनट लंबा एक वीडियो दिखाया गया है। बता दें कि माल्या के मामले की सुनवाई कर रही ब्रिटेन की अदालत ने भारतीय अधिकारियों को ऑर्थर रोड जेल की एक कोठरी का वीडियो सौंपने का निर्देश दिया था, जहां प्रत्यर्पण के बाद विजय माल्या को रखने की योजना है।

दरअसल, माल्या के बचाव दल ने ऑर्थर रोड स्थित मुंबई के केंद्रीय कारागार की बैरक संख्या 12 की तस्वीरों की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था, ‘बिल्डिंग के अंदर बिल्डिंग में प्राकृतिक रोशनी का पहुंचना मुश्किल है क्योंकि सूर्य का प्रकाश जेल की बिल्डिंग में दूसरी बिल्डिंग से होकर नहीं पहुंचता।’ उन्होंने कहा था, ‘तस्वीरों में ऐसा जान पड़ता है जैसे नेचुरल लाइट हो।’

इधर, भारतीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा था कि ऑर्थर रोड जेल में कैदियों के उपचार के लिए समुचित चिकित्सा सुविधाएं हैं जहां माल्या को विचाराधीन कैदी के रूप में सुरक्षा मिलेगी। यह जेल अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार उच्च सुरक्षा प्राप्त जेल है। केंद्र सरकार ने ऑर्थर रोड जेल के कैदियों को मिली सुरक्षा का पहले ही मूल्यांकन किया था और उसकी रिपोर्ट ब्रिटिश अदालत को सौंपी थी।

बता दें कि माल्या ने धोखाधड़ी और तकरीबन 9,000 करोड़ रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों के बाद देश छोड़ दिया। वह मार्च 2016 से ब्रिटेन में हैं और उन्हें प्रत्यर्पण वॉरंट पर 18 अप्रैल को स्कॉटलैंड यार्ड ने गिरफ्तार किया था और पिछले साल 4 दिसंबर को लंदन की अदालत में उनके प्रत्यर्पण को लेकर मुकदमा शुरू हुआ था, लेकिन उन्हें जल्दी ही अदालत से जमानत मिल गई थी।

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here