क्या वेंकैया नायडू ने राहुल गांधी पर अपनी इस ‘टिप्पणी’ से उपराष्ट्रपति पद का अपमान किया?

0

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने वंशवादी राजनीति पर अप्रत्यक्ष रूप से राहुल गांधी पर निशाना साधा। उपराष्ट्रपति ने कहा कि राजवंश और लोकतंत्र साथ नहीं चल सकते, यह हमारे सिस्टम को कमजोर करता है। राजवंश बुरा है, लेकिन कुछ लोगों को राजवंश व्यवस्था बेहद पसंद है।

उपराष्ट्रपति

उन्होंने यह बात दिल्ली में एक बुक लॉन्च के मौके पर कही। हालांकि इस दौरान उन्होंने किसी पार्टी या नेता का नाम नहीं लिया। नायडू ने कहा कि वह पहले भी इस तरह की बात करते रहे हैं लेकिन अब वह राजनीति से बाहर हैं। उन्होंने कहा, मैं यह बयान किसी पार्टी विशेष को ध्यान में रखकर नहीं दे रहा हूं। क्योंकि किसी ने कहा है कि सब एक दूसरे को फॉलो करते हैं

बता दें कि, उपराष्ट्रपति का यह बयान राहुल के कैलिफोर्निया विश्वविधालय बर्कले में दिए बयान के 3 दिन बाद आया है। राहुल गांधी ने 12 सितंबर को अमेरिका में बर्कले यूनिवर्सिटी के एक प्रोग्राम में कहा कि भारत में वंशवाद की राजनीति ही सभी पार्टियों की समस्या है, देश में ज्यादातर ऐसा ही चल रहा है।

उपराष्ट्रपति के बयान के बाद कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, ‘यह कैसे हो सकता है। उपराष्ट्रपति राजनीतिक दलदल में उतर गए हैं, इस पर हम कानूनी प्रोटोकॉल और इज्जत भूल सकते हैं।’

राहुल गांधी ने क्या कहा था?

बता दें कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल ने बर्कली में कैलिफॉर्निया विश्वविद्यालय में अपने भाषण के दौरान भारत में वंशवाद के बारे में टिप्पणी की थी। यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस पार्टी वंशवाद की राजनीति से अधिक जुड़ी है, इसके जवाब में राहुल गांधी ने कहा था कि भारत को वंश चला रहे हैं।

उन्होंने जाने माने परिवारों में जन्मे कई प्रमुख भारतीयों की सूची पेश करते हुए कहा कि भारत में अधिकतर दलों में यह समस्या है। अखिलेश यादव (यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह के पुत्र) एक वंश के वारिस हैं। स्टालिन (तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एम करुणानिधि के पुत्र) एक वंश के वारिस हैं। यहां तक कि अभिषेक बच्चन (बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन के पुत्र) भी एक वंश के वारिस है।

इसके साथ ही कांग्रेस उपाध्यक्ष ने मुकेश व अनिल अंबानी (रिलायंस इंडस्ट्रीज के संस्थापक धीरूभाई अंबानी के पुत्र) का जिक्र करते हुए कहा कि भारत इसी तरह चलता है, इसलिए मेरे पीछे नहीं पड़ें। उन्होंने साथ ही कहा कि कांग्रेस पार्टी में बड़ी संख्या में ऐसे लोग हैं, जिनकी कोई वंशवादी पृष्ठभूमि नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here