पीएम मोदी के रोड शो से पहले वाराणसी में सड़कों को धोने के लिए 1.4 लाख लीटर पानी का हुआ उपयोग

1

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार (26 अप्रैल) को वाराणसी लोकसभा सीट से अपना नामांकन दाखिल कर दिया। उनके साथ प्रस्तावक रामशंकर पटेल, नंदिता शास्त्री, डोमराजा परिवार के जगदीश चिढ़ती भी मौजूद रहे। पीएम मोदी सुबह लगभग 11 बजकर 40 मिनट पर कलेक्ट्रेट भवन में पहुंचे और अपना नामांकन पत्र पेश किया। कलेक्ट्रेट में नामांकन पत्र दाखिल करने से पूर्व मोदी ने प्राचीन काल भैरव मंदिर में जाकर पूजा अर्चना की। वहीं, सुबह उन्होंने बूथ कार्यकर्ताओं के सम्मेलन को भी संबोधित किया।

PHOTO: The Telegraph/PTI

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में नामांकन पत्र दाखिल करने से एक दिन पहले गुरुवार (25 अप्रैल) को यहां एक विशाल रोड शो किया, जिसमें लोगों की भारी भीड़ उमड़ी। शक्ति प्रदर्शन के लिहाज से किए गए इस आयोजन का समापन दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती के साथ हुआ, जिसमें पीएम मोदी ने अमित शाह के साथ हिस्सा लिया। पीएम के इस कार्यक्रम को राजनीतिक सुर्खियों में शीर्ष पर लाने के लिए इसमें शाह के अलावा सीएम योगी आदित्यनाथ और बीजेपी के कई वरिष्ठ नेता उनके साथ मौजूद थे।

सड़कों को धोने के लिए 1.4 लाख लीटर पानी का हुआ उपयोग

द टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक, पीएम मोदी के रोड शो से पहले वाराणसी में सड़कों को धोने के लिए करीब 1.4 लाख लीटर पानी का उपयोग हुआ। टेलीग्रॉफ की रिपोर्ट के मुताबिक, वाराणसी की सड़कों को धोने के लिए पीएम मोदी के रोड शो से पहले बुधवार रात 1.4 लाख लीटर पीने के पानी का उपयोग किया गया था। इसके एक दिन बाद गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शहर में शानदार स्वागत किया गया और उन्होंने एक मेगा रोड शो का नेतृत्व किया।

वाराणसी में बुधवार की रात एक रोड डिवाइडर को साफ करते मजदूर। Photo: The Telegraph

एक अधिकारी ने टेलीग्राफ से कहा, “हमारे पास प्रधानमंत्री के लिए सड़कों को धोने के निर्देश थे।” एक सूत्र ने अखबार को बताया कि वाराणसी नगर निगम के 40 पानी के टैंकर और 400 मजदूरों को काम के लिए तैनात किया गया था। बता दें कि आमतौर पर सड़कों को त्योहारों के दौरान ही धोया जाता है। हालांकि वाराणसी एक अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल है, लेकिन नगर निगम की एक रिपोर्ट कहती है कि केवल 70 प्रतिशत घरों में ही पानी की पाइपलाइन है। बाकी बोर-कुओं पर ही निर्भर हैं।

 

 

 

 

1 COMMENT

  1. This is NEW INDIA. Where people have to walk miles for few liters of water from a hole / pond to survive; such humongous wastage.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here