उत्तराखंड में जारी रहेगा राष्ट्रपति शासन, 29 को नहीं होगा शक्ति परीक्षण: सुप्रीम कोर्ट

0

उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन के मामले में नया मोड़ आ गया है अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि शक्ति परीक्षण 29 को नहीं होगा। हाईकोर्ट द्वारा राज्‍य में राष्‍ट्रपति शासन लगाने के फैसले को खत्म करने पर दिया गया स्टे अगले आदेश तक जारी रहेगा।
harish-rawat-7591-620x400

उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन लगाने के फैसले पर केंद्र सरकार की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अगली सुनवाई 3 मई को करने का फैसला लिया। दरअसल, नैनीताल हाईकोर्ट ने हरीश रावत सरकार को 29 अप्रैल को अपना बहुमत साबित करने को कहा था और प्रदेश में से राष्ट्रपति शासन हटा दिया था।

Also Read:  सिस्टम से लड़ने वालों को बलिदान के लिए तैयार रहना पड़ता है, कुर्बानी देनी पड़ती है, तैयार हूँ: स्वाति मालीवाल

इस मामले की सुनवाई के दौरान बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी से पूछा, क्या स्टिंग के आधार पर राष्ट्रपति शासन लागू किया जा सकता है? वहीं मुकुल रोहतगी ने बताया कि वित्त विधेयक कभी पास ही नहीं हुआ है। 18 मार्च को सरकार ही गिर गई थी।

Also Read:  लोन गारंटी स्कीम की हुई शुरआत, आज पहले चेक बांटे गए

जनसत्ता की खबर के अनुसार कोर्ट ने केन्द्र सरकार से कई सवालों के जवाब मांगें कोर्ट ने पूछा कि क्या विधानसभा की कार्यवाही पर विचार करके राष्ट्रपति केंद्रीय शासन का आदेश दे सकते हैं और इसके आधार पर क्‍या फ्लोर टेस्ट में देरी कर सकते हैं।

Also Read:  छह मंजिला निर्माणाधीन इमारत के गिरने से अब तक 9 लोगों की मौत, सपा नेता के खिलाफ FIR हुई दर्ज

कोर्ट ने साथ ही पूछा कि क्या स्पीकर द्वारा विधायकों को अयोग्य ठहराना धारा 356 के तहत राष्ट्रपति शासन लगाने के लिए उपयुक्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here