लग्जरी कार से उतरे व्यक्ति का गवर्नर समझ किया स्वागत, उर्जित पटेल से मांगा आईकार्ड

0

हिंदुस्तान में लक्ज़री कार और लक्ज़री रहन-सहन इतना हावी हो चुका है कि अगर कोई बड़ा अफसर और सेलिब्रिटी महंगी कार से ना उतरे तो लोग उन्हे पहचानते ही नहीं ऐसा ही हुआ हमारे नवनिवार्चित आरबीआई गर्वनर उर्जित पटेल के साथ और बेहद सादगी के साथ जब उर्जित पटेल नीति आयोग की बैठक में पहुंचे वहां गार्ड ने उनसे आईकार्ड मांग लिया।

रिजर्व बैंक के गवर्नर (आरबीआई) उर्जित पटेल पहली बार नीति आयोग की बैठक में शामिल होने गए, मगर आयोग के अधिकारियों ने उनसे पहले वहां पहुंचे किसी दूसरे शख्स को गलती से आरबीआई का गवर्नर समझ लिया। उर्जित की सादगी ने अफसरों को गलतफहमी में डाल दिया।

नीति आयोग के प्रधान कार्यालय के अधिकारियों ने उर्जित के स्वागत के लिए तैयारियां पूरी कर ली थीं। एक वरिष्ठ अधिकारी कार्यालय के रिसेप्शन पर उनके आने का इंतजार कर रहे थे। तभी कार्यालय के गेट पर एक लग्जरी कार आकर रुकी। वहां अधिकारियों ने कार से निकले शख्स को उर्जित पटेल समझ उसकी अगवानी की और उसे नीति आयोग के कार्यालय के मुख्य गेट तक लेकर आए।

इसके कुछ ही मिनट बाद उर्जित पटेल भी अपनी कार से वहां पुहंचे और हाथ में दस्तावेजों का बंडल लिए हुए अकेले ही नीति आयोग प्रधान कार्यालय के मेन गेट पर पहुंचे। मेन गेट पर तैनात केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के जवान ने उर्जित को नहीं पहचाना और उन्हें अंदर जाने से रोकते हुए अपना आईडी कार्ड दिखाने के लिए कहा। उर्जित पटेल ने बिना किसी हिचकिचाहट के एक सामान्य व्यक्ति की तरह सीआईएसएफ जवान को अपना आईकार्ड दिखाया, जिसके बाद जवान ने उन्हें अंदर जाने दिया।

LEAVE A REPLY