उम्मीद है कि उरी के साजिशकर्ताओं को न्याय के कटघरे में लाया जाएगा : बान की मून

0

उत्तर कश्मीर के उरी स्थित सेना के एक शिविर पर किए गए आतंकी हमले की निंदा करते हुए संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की-मून ने उम्मीद जताई है कि इस अपराध के साजिशकर्ताओं को न्याय के कटघरे में लाया जाएगा और ‘सभी संबंधित’ पक्षों की प्राथमिकता यह होगी कि स्थिरता की पुन: स्थापना की जाए और लोगों की जान को और नुकसान नहीं हो.

भाषा की खबर के अनुसार, बान के प्रवक्ता की ओर से जारी बयान में कहा गया, संयुक्त राष्ट्र इन बदलावों पर करीबी नजर बनाए हुए हैं और क्षेत्र में रहने वाले लोगों की शांति से जुड़ी चिंताओं में साझीदार हैं. बान ने उम्मीद जताई कि हमले के साजिशकर्ताओं को न्याय के कटघरे में लाया जाएगा और सभी पक्ष शांति एवं स्थिरता कायम करने के लिए अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करेंगे.

Also Read:  कैलेंडर में महात्मा गांधी की जगह पीएम मोदी की तस्वीर छपने पर खादी ग्रामोद्योग में काम करने वालों का फूटा गुस्सा

‘आतंकी हमले’ की निंदा करते हुए बान ने जान गंवाने वाले सैनिकों के परिवारों और भारत सरकार के प्रति अपनी ‘गहरी संवेदना और शोक’ जताया. उन्होंने हमले में घायल लोगों के जल्दी ठीक होने की कामना की. इसी बीच, वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने भी ‘आतंकी हमला झेलने वाले’ भारतीयों के प्रति एकजुटता जाहिर की. मादुरो ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी के बाद गुटनिरपेक्ष आंदोलन की अध्यक्षता संभाली है.

Also Read:  श्री देवी की बेटी जाह्नवी कपूर हाॅट अवतार में करा रही हैं फोटोशूट

कल मार्गरिटा द्वीप पर गुट निरपेक्ष शिखर सम्मेलन के बाद आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, ‘‘आतंकी गतिविधियों का प्रसार करने वाली, जिंदगी का सम्मान न करने वाली इस समस्या की जड़ तक जाने के मामले में हम विश्व के अपने भाई समान लोगों के प्रति प्रतिबद्ध हैं. हम लोगों के सहअस्तित्व के लिए प्रतिबद्ध हैं. सेना पर हाल में किए गए घातक हमलों में से एक हमला कल उत्तरी कश्मीर के उरी में सेना के बटालियन मुख्यालय पर बोला गया। हथियारों से लैस आतंकियों द्वारा बोले गए इस हमले में 17 सैनिक शहीद हो गए और 19 अन्य घायल हो गए. आतंकी हमले में शामिल चार आतंकियों को सेना ने मार गिराया.

Also Read:  FDI के नियमों में ढील पर RSS से जुड़े संस्थाओं का मोदी सरकार पर हमला, कहा फैसला जनता के साथ विश्वासघात है

इस हमले से दो साल पहले आतंकियों ने इसी इलाके के मोहरा में ऐसे ही एक हमले को अंजाम दिया था. 5 दिसंबर 2014 को हुए इस हमले में 10 सुरक्षाकर्मी मारे गए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here