यूपी इन्वेस्टर्स समिट: उद्योगपतियों ने CM योगी को दिया 4.28 लाख करोड़ रुपये का तोहफा, PM मोदी बोले- योगी सरकार ने जगाई उम्मीद की किरण

0

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में इन्वेस्टर्स समिट में देशभर के नामी-गिरामी उद्योगपतियों ने यूपी में निवेश की घोषणा की। इस दौरान कारोबारियों ने करीब 4.28 लाख करोड़ रुपये निवेश की घोषणा कर सीएम योगी आदित्यनाथ को शानदार तोहफा दिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश इन्वेस्टर्स समिट 2018 के पहले दिन आज तक कुल 4.28 लाख करोड रूपये के 1045 सहमति पत्रों (एमओयू) पर हस्ताक्षर हो चुके हैं।

@CMOfficeUP

सम्मेलन के उदघाटन कार्यक्रम में सीएम योगी ने कहा कि, ‘यह राज्य के लिए गौरव की बात है कि समिट में फार्च्यून-500 सूची की कई कंपनियां हिस्सा ले रही हैं। मैं आपको बताना चाहता हूं कि अब तक हमने 4.28 लाख करोड रूपये के 1045 एमओयू पर हस्ताक्षर किये हैं। मैंने हाल ही में 4.28 करोड रूपये का बजट पेश किया था और यहां जो एमओयू हुए, उनकी राशि का आंकडा भी उतना ही है। हम अब नये उत्तर प्रदेश की ओर बढ रहे हैं।’

PM मोदी बोले- योगी सरकार ने जगाई उम्मीद की किरण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्योगपतियों और निवेशकों की यहां वैश्विक निवेश सम्मेलन में व्यापक उपस्थित को ‘बड़ा परिवर्तन’ करार देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने राज्य को हताशा से निकालकर उम्मीद की एक किरण जगाई है। मोदी ने ‘यूपी इन्वेस्टर्स समिट 2018’ का शुभारंभ करते हुए कहा कि, ‘जब परिवर्तन होता है तो सामने दिखने लगता है। उत्तर प्रदेश में इतने व्यापक स्तर पर इन्वेस्टर्स समिट का होना, इतने निवेशकों और उद्यमियों का एकजुट होना अपने आप में एक बहुत बड़ा परिवर्तन है।’

उन्होंने कहा कि राज्य के पिछड़े अंचल बुंदेलखंड के विकास को विशेष तौर पर ध्यान में रखते हुए तय किया गया है कि उत्तर प्रदेश में डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर का विकास आगरा, अलीगढ़, लखनऊ, कानपुर, झांसी और चित्रकूट तक होगा। इस कॉरिडोर में 20 हजार करोड़ रुपये के निवेश की संभावना है और ये ढाई लाख लोगों के लिए रोजगार के नये अवसर का सृजन करेगा।

मोदी ने कहा कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे और बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे से पूर्वांचल एवं बुंदेलखंड क्षेत्रों का औद्यो​गीकरण तेजी से होगा। उन्होंने राज्य के समग्रवातावरण में परिवर्तन के विषय में कहा, ‘पहले की स्थितियां क्या थीं? किन वजहों से थीं? ये उत्तर प्रदेश के लोगों से बेहतर कोई नहीं जानता है। भय और असुरक्षा के माहौल में जब सामान्य नागरिक का जीवन जीना मुश्किल हो जाता है तो फिर उद्योगों के लिए सोच ही कैसे सकते हैं। विकास की बात करना, नौजवानों को नये अवसर की बात करना, मध्यम वर्ग की आकांक्षाओं की बात करना… मैं नहीं मानता कि ऐसा माहौल कभी संभव था।’

 

पीएम मोदी ने कहा कि, ‘निगेटिविटी (नकारात्मकता) के माहौल से राज्य को पॉजिटिविटी (सकारात्मकता) की तरफ लाना, हताशा और निराशा से उसे अलगकर उम्मीद की किरण जगाने का काम योगी सरकार ने किया है। उत्तर प्रदेश में अब वो बुनियाद तैयार हो चुकी है, जिस पर ‘न्यू उत्तर प्रदेश’ की भव्य और दिव्य ​इमारत का निर्माण होगा।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि औद्योगिक निवेश को रोजगार सृजन से जोड़कर नीतियां बनायी जाती हैं और फैसले लिये जा रहे हैं। अलग अलग क्षेत्रों के हिसाब से अलग अलग नीतियां बनाकर काम किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में अब उद्योगपतियों के लिए लाल फीताशाही नहीं बल्कि ‘रेड कारपेट’ होगा। डिजिटल मंजूरी स्कीम इसी का उदाहरण है। ये सिंगल विण्डो पोर्टल होगा जिसके जरिए उद्यमियों को तय सीमा में आनलाइन अनुमति मिल जाया करेगी। उन्होंने कहा कि ‘वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट’ योजना अपने आप में ‘गेम चेंजर’ है। उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार के समय मैं हमेशा कहता था कि जब राज्य को डबल इंजन की पावर मिलेगी तो विकास ओर तेज गति से होगा। प्रधानमंत्री ने उम्मीद जतायी कि इन्वेस्टर्स समिट यूपी में नये निवेश की संभावनाओं के नये द्वार खोलने में सफल होगी।

10 हजार करोड़ को निवेश करेगा रिलायंस

लखनऊ में हो रहे कारोबारियों के कुंभ ‘इन्वेस्टर्स समिट’ में उद्योगपति मुकेश अंबानी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सपना उत्तर प्रदेश का सर्वोत्तम प्रदेश बनाने का अवश्य साकार होगा। अंबानी ने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी का सपना उत्तर प्रदेश का सर्वोत्तम प्रदेश बनाने का अवश्य साकार होगा। उन्होने कहा मोदी के सपनों को मिलकर साकार करेंगे. उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य है।

इस राज्य की प्रगति से देश आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि जियो यूपी में अगले तीन साल में 10 हजार करोड़ का इन्वेस्टमेंट करेगी। उन्होंने कहा कि जियो का यूपी में सबसे अधिक इनवेस्टमेंट है। इस राज्य में 20 हजार करोड का इन्वेस्ट हो जाएगा। जियो का सबसे बड़ा बाजार उत्तर प्रदेश में है। अगले तीन वर्षों में 10 हजार करोड रुपये का और इन्वेस्ट किया जाएगा।

अंबानी ने कहा कि मैं चाहता हूं कि यूपी का हर नौजवान स्मार्ट नौजवान बने। अगले दो महीनों में यूपी में जियो के दो करोड़ फोन लांच करेंगे। जियो उच्च क्वालिटी का डाटा कम दाम पर देगी।’ उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिये कहा कि, योगी कर्मयोगी हैं। उन्होंने मुंबई आकर मुझसे कहा था कि आपको यूपी आना है और प्रदेश को आगे लेकर जाना है। यूपी के विकास के बिना भारत का विकास नहीं हो सकता।

अडाणी समूह करेगा 35 हजार करोड़ का निवेश

वहीं, अडाणी समूह उत्तर प्रदेश में अगले पांच साल के दौरान 35 हजार करोड़ रुपये का निवेश करेगा। समूह के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक गौतम अडाणी ने ‘उत्तर प्रदेश निवेशक शिखर सम्मेलन 2018’ के उद्घाटन के मौके पर आज यहां यह घोषणा की।

उन्होंने कहा कि, ‘‘भारत की कुल आबादी का 17 फीसदी उत्तर प्रदेश में रहता है। भारत के विकास की कहानी उत्तर प्रदेश के विकास की कहानी से अलग नहीं की जा सकती।’’ उन्होंने ऊर्जा, लॉजिस्टिक्स, फूड एवं एग्रीकल्चर कांप्लेक्स, नवीकरणीय ऊर्जा, सड़क एवं मेट्रो रेल जैसे क्षेत्रों में निवेश का आश्वासन दिया।

25 हजार करोड़ रुपये का निवेश करेगा बिड़ला समूह

आदित्य बिड़ला समूह के चेयरमैन कुमारमंगलम बिड़ला ने कहा कि उनका समूह उत्तर प्रदेश में अगले पांच साल के दौरान विभिन्न क्षेत्रों में 25 हजार करोड़ रुपये का निवेश करेगा। बिड़ला ने ‘उत्तर प्रदेश निवेशक शिखर सम्मेलन 2018’ के उद्घाटन के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में कहा कि, ‘‘अगले पांच साल में हम अलग अलग कारोबार में 25 हजार करोड़ रुपये का निवेश करेंगे।’’

उन्होंने कहा कि बिड़ला समूह सीमेंट, ​रसायन और वित्तीय सेवाओं के क्षेत्र में राज्य में सक्रियता से कार्य कर रहा है। समूह ने यहां 24 हजार करोड़ रुपये का निवेश किया है और 40 हजार लोगों को रोजगार मुहैया कराया है। बिड़ला ने कहा कि उनकी कंपनी दूरसंचार, रसायन और वित्तीय सेवाओं के क्षेत्र में निवेश बढ़ाएगी। उन्होंने बताया कि बिड़ला समूह कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश के 400 गांवों में कार्य कर रहा है।

एस्सेल ग्रुप का 18 हजार करोड़ का करेगा निवेश

इसके अलावा एस्सेल ग्रुप के मालिक सुभाष चंद्रा ने कहा कि, ‘पिछली सरकार में हमने 30 हजार करोड़ का MOU किया था, लेकिन तीन साल में महज 3 हजार करोड़ का ही निवेश हो सका। अब नई सरकार का उद्देश्य केवल MOU ही करना नहीं है वह उसकी कठिनाई भी दूर कर रही है। समीक्षा के बाद योगी जी ने MOU घटाकर 18,750 के कर दिए हैं जिससे उसे जमीन पर उतारा जा सके।’ सुभाष चंद्रा ने योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि योगी जी के नेतृत्व में यूपी एक नए यूपी के रूप में उभर रहा है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here