बुलंदशहर हिंसा: DSP अभिषेक प्रकाश का छलका दर्द, बोले- नफ़रत की खेती जब लगातार होगी तब कोई एक सुबोध सिंह नही रहेगा हम सभी ‘सुबोध’ हो जाएंगे!

1

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में सोमवार को हिंसा के दौरान इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या पर यूपी पुलिस के डीएसपी अभिषेक प्रकाश का दर्द छलककर सामने आ गया। भदोही जिले में कार्यरत डीएसपी ने फेसबुक पर अपना दर्द बया किया है। उनका यह पोस्ट अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

अभिषेक

डीएसपी अभिषेक प्रकाशने अपने फेसबुक पोस्ट के आखिर में भावुकता के साथ लिखा, “लेकिन नफ़रत की खेती जब लगातार होगी तो बीज वृक्ष बनेगा ही, तब कोई एक सुबोध सिंह नही रहेगा हम सभी ‘सुबोध’ हो जाएंगे! हो सकता है कि कोई गोली हमारा भी इंतज़ार कर रही हो!”

पढ़िए अभिषेक प्रकाश का फेसबुक पोस्ट :

“संविधान की आत्मा ऐसे ही नही मरेगी उसके लिए सामूहिक प्रयास की आवश्यकता है! और उसके लिए जरूरी है कि एक ऐसी ही भीड़, ऐसा ही उन्माद और ऐसे ही सोच के बीज बो दिया जाए जो धीरे धीरे संविधान की हत्या स्वयं कर देगी!
और इसी कड़ी में सुबोध सिंह के हत्या को देेेखा जाना चाहिए। खैर सुबोध सिंह कोई एक्टिविस्ट कोई राजनेता कोई कलाकार, पत्रकार या उद्यमी नही थे जिनके लिए कोई हाय तौबा मचे! वह इंसान एक पुलिसकर्मी था और मैं जानता हूं कि सभी बड़े-महान लोगो की नज़र में पुलिस वाला चोर, बेईमान, राजनेताओं के तलुवे चाटने वाला ही होता है!

खैर पुलिस की नियति ही यही है।पुलिसकर्मी अपनी कमजोरी के साथ साथ दूसरे विभाग की नाकामियों के बोझ को भी अपने कंधे पर ढोती है।पुलिस सभी के आशाओं को कंधा देती है और इसीलिए अपने कंधे तुड़वा बैठती है। आजकल पुलिस के इक़बाल की बातें बहुत हो रही हैं।मैं भी मानता हूं कि पुलिस का इक़बाल कम हुआ है लेकिन मुझे ये भी बता दीजिए कि इतने कम संसाधनों और राजनीतिक दबाव के बीच किस संस्था का इक़बाल इस देश मे मजबूत हुआ है!चाहे शिक्षण संस्थान हो पत्रकारिता, मेडिकल, विधायिका हो या अन्य कोई भी संस्थान सभी अपने उद्देश्य को पूरा करने मे असफल ही साबित हो रहे हैं।

लेकिन जो महत्वपूर्ण बात है वो यह है कि पुलिस को जहां डील करना होता है उस कार्य की प्रकृति कुछ ज्यादा ही गंभीर होती है,जिसकी परिणति सुबोध सिंह के रूप में भी होती है।अन्य कौन सा विभाग है जहां के प्रोफेशनल को इस तरह अपनी जान गंवाना पड़ता है! सुबोध सिंह को मारने के पीछे जो भी योजना रही हो लेकिन इस तरह की घटनाएं हमारे समय का इतिहास लिख रही है जो आगे चलकर हमारे देश के भूगोल को बदलने का माद्दा रखती है! जो गंभीर नही हैं वह देश के आंतरिक विभाजन को गौर से देख ले कि कौन कहाँ किसके साथ और क्यों रह रहा है!

खैर हम पुलिसवाले हैं जो वर्दी पहन लेने के बाद ठुल्ला, चोर-बेईमान, और तलवे चाटने वाले हो जाते हैं।लेकिन हम हमेशा ऐसे ही नही रहेंगे उसके लिए सामान्य मानस को आगे आना होगा,उसके लिए मंदिर-मस्जिद निर्माण से ज्यादा पुलिस सुधार की बाते करनी होगी! पुलिस ही नही हमारे तथाकथित आकाओं (कुछ लोगों के हिसाब से) से प्रश्न करना होगा कि पुलिस रिफॉर्म को क्यों नही आगे बढ़ाया जा रहा! मैं सलाम करता हूं अभिषेक को जो अपने पिता के मरने के बाद भी हिंसा व नफरत की भाषा को नही फैला रहा।सच कहूं तो तस्वीर में भी उससे नज़र नही मिला पा रहा! पुलिस एक परिवार है और अभिषेक जैसे सभी हमारे अपने हैं।

खैर बुलंदशहर की भयावहता को मैं केवल थोड़ी बहुत ही कल्पना में उतार पा रहा हूं क्योंकि इस तरह की एक घटना मेरे क्षेत्र में भी घटित हुई थी,जब एक गाय को काट कर फेंक दिया गया था! उस समय भीड़ की मानसिकता क्या होती है इसका अंश भर अंदाजा हमें है, लेकिन यह भी सच है कि जिस भीड़ का सामना मैंने किया उसमे नफरत का स्पेस इतना नही था! लेकिन नफ़रत की खेती जब लगातार होगी तो बीज वृक्ष बनेगा ही तब कोई एक सुबोध सिंह नही रहेगा हम सभी ‘सुबोध’ हो जाएंगे! हो सकता है कि कोई गोली हमारी भी इन्तज़ार कर रही हो!”

Pizza Hut

1 COMMENT

  1. आपकी तमाम बातें अपनी जगह दुरुस्त है डीएसपी साहब ।मगर सवाल यह है कि नफरत की खेती को बंद कौन करेगा। सरकारी कर्मचारी होने के नाते आप लोगों का अपना संगठन है यूनियन है तो क्यों न उस स्तर से नफरत की खेती को बंद करने के लिए उठ खड़े होने की कोशिश की जाए। आप शत प्रतिशत सही है कि अगर इसे नहीं रोका गया देश में कई सुबोध कुमार सिंह का नाम आ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here