जम्मू कश्मीर के छात्रों पर नज़र रखने के लिए केंद्र सरकार ने जारी की एडवाइजरी

0
>

जेएनयू विवाद में हुए छात्रों के गिरफ्तारी पर कोलकाता के जादवपुर यूनिवर्सिटी के छात्रों के प्रदर्शन के बाद कोलकाता पुलिस ने यूनिवर्सिटी से उन सारे छात्रों का ब्यौरा मांगा है जो जम्मू और कश्मीर से सम्बन्ध रखते हैं।

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार पुलिस ने युनिवर्सिटी अधिकारियों से जो सुचना मांगी है वो कुछ इस प्रकार हैं,

“हमें उन छात्रों का ब्यौरा जल्द से जल्द उपलब्ध कराई जाये जो जम्मू और कश्मीर से आते हों, ताकि हम वह सुचना दिल्ली स्थित गृह मंत्रालय को दे सके।”

Also Read:  गुजरात: हिंदी किताब में ईसा मसीह को ‘हैवान’ बताने के बाद अब रोजे को बताया जा रहा ‘संक्रमण वाली बीमारी’

यह एडवाइजरी फ़रवरी के अंतिम हफ्ते में भेजी गयी थी जब जादवपुर यूनिवर्सिटी में जेएनयू के छात्रों के पक्ष में प्रदर्शन हुआ था ।

ff IMG-20160315-WA0000

पुलिस जॉइंट कमिश्नर(इंटेलिजेंस), पल्लव कांत घोष ने इस जानकारी को सही बताया है।

Also Read:  हम दिल्ली उच्च न्यायालय का काम अपने हाथ में नहीं ले सकते: Supreme Court

यह क्यों किया जा रहा यह पूछने पर घोष ने जवाब देने से मना कर दिया।

हालाँकि, कुछ वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि यह एक तरह का मॉनिटरिेंग प्रोसेस है जिसके तहत सरकार और प्रशासन जम्मू और कश्मीर के छात्रों की गतिविधियों पर नज़र रख सके।

एक सीनियर पुलिस अफसर ने कहा कि यह सब पहली बार हो रहा है, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था।

Also Read:  केंद्र सरकार के आदेश के बाद भी गाड़ी पर लाल बत्ती लगा कर धूम रहे हैं पश्चिम बंगाल के मंत्री

केंद्रीय गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि जेएनयू विवाद के बाद केंद्र सरकार ने सारे राज्यों को इस बात की जानकारी देकर कहा था कि यह काफी सवेदनशील मुद्दा है और जेएनयू जैसी घटना दुबारा नहीं होनी चाहिए, और इसी संदर्भ में केंद्र की तरफ से एडवाइजरी जारी की गयी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here