भारत ने संयुक्त राष्ट्र में कहा- तालिबान नेता को आतंकी घोषित नहीं किया जाना एक ‘रहस्य’

0

भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंधित लोगों की सूची में तालिबान के नेता को आतंकी के तौर पर शामिल नहीं किए जाने की आलोचना करते हुए उसके इस रूख को एक ‘रहस्य’ बताया है। इसके साथ ही भारत ने पाकिस्तान पर परोक्ष तौर पर निशाना साधते हुए कहा है कि अफगानिस्तान में हिंसा की साजिश रचने वालों को उनके पड़ोस में सुरक्षित ठिकाने नहीं मिलने चाहिए।

Also Read:  कांग्रेस की ‘राजीव गांधी खेल अभियान’ योजना केन्द्र ने खत्म की, अब होगा ‘खेलो इंडिया’

भाषा की खबर के अनुसार, गल्यगोहां सुरक्षा परिषद में अफगानिस्तान के संबंध में जारी बहस में भारत के स्थायी उपप्रतिनिधि तन्मय लाल ने कहा, ‘‘प्रतिबंधित संगठन तालिबान के नेता को आतंकी घोषित नहीं किया जाना हमारे लिए अब तक रहस्य बना हुआ है। क्या हम इस रूख के पीछे की वजह जान सकते हैं?’’

Also Read:  Beef ban is killing India's prosperity, Beef is to India what petrol is to Saudi Arabia

तालिबान ने मई में मुल्ला अख्तर मुहम्मद मंसूर के अमेरिकी ड्रोन हमले में मारे जाने पर एक कट्टरपंथी मौलवी हैबतुल्ला अखुंदजादा को अपना नया नेता बनाया था। अखुंदजादा का नाम आतंकवादियों के नाम वाली किसी सूची में नहीं है।

Also Read:  दिल्ली: जासूसी के आरोप में खुफिया दस्तावेजों के साथ पाकिस्तानी उच्चायोग का अधिकारी गिरफ्तार

लाल ने सवाल उठाया कि एक प्रतिबंधित संगठन के प्रमुख को आतंकवादी घोषित न करके वैश्विक संस्था शांति एवं सुरक्षा के समक्ष मौजूद सबसे बड़े खतरों में से एक खतरे आतंकवाद से कैसे निपटना चाहती है? जारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here