UIDAI का बड़ा फैसला, अब 1 जुलाई से अपने चेहरे से भी करवा सकेंगे आधार का सत्यापन

0

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने आधार सत्यापन के लिए उंगुलियों के निशान तथा आंखों की पुतलियों के अलावा अब चेहरे की पहचान को भी शामिल करने की अनुमति दे दी है। यह नया फीचर एक जुलाई 2018 से लागू हो जाएगा। दरअसल, यह व्यवस्था उन लोगों की सुविधा के लिए की जा रही है जिन्हें उपर्युक्त दोनों तरीकों से आधार सत्यापन में दिक्कत होती है।

File Photo: Reuters

न्यूज एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने चेहरे के जरिए आधार कार्ड के सत्यापन की अनुमति सोमवार (15 जनवरी) को दी। इस तरह से आधार सत्यापन के लिये एक नया तरीका और जुड़ गया है।  अब तक यह काम ऊंगलियों के निशान और आंखों की पुतली आइरिसी स्कैन के जरिए किया जाता है।

प्राधिकार के इस कदम से उन व्यक्तियों को राहत होगी जो कई कारणों के चलते आधार के सत्यापन के लिए ‘फिंगरप्रिंट्र’ और ‘आइरिस’ का इस्तेमाल नहीं कर पाते। भाषा के मुताबिक एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि यह नई सुविधा सत्यापन के मौजूदा तरीकों के साथ मिलकर उपलब्ध होगी।

सत्यापन की यह नई सुविधा एक जुलाई 2018 से उपयोग के लिए उपलब्ध होगी। इसके अनुसार, ‘जो लोग वृद्धावस्था, कठिन मेहनत वाले हालात या अंगुलियों के निशान धूमिल होने जैसे हालात के कारण अपने आधार का बायोमेट्रिक तरीके से सत्यापन नहीं करवा पा रहे, यह नई सुविधा उनके लिए मददगार साबित होगी।’

Rifat Jawaid on the revolt by Supreme Court judges

Posted by Janta Ka Reporter on Friday, 12 January 2018

मौजूदा व्यवस्था में आधार का सत्यापन ऊंगलियों के निशान और आंखों की पुतली के स्कैन के जरिए किया जाता है।प्राधिकार का कहना है कि सत्यापन की यह नई सुविधा ‘जरूरत के हिसाब’ से उपलब्ध होगी। बता दें कि यूआईडीएआई ने पिछले सप्ताह ही व्यक्तियों को सरकारी और अन्य सेवाओं के उपयोग के लिए एक आभासी आईडी बनाने, इस्तेमाल करने की अनुमति भी दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here