मुंबई में उबेर और ओला के पर्यटक परमिट पर लग सकता है ब्रेक

0

मुंबई में उबेर और ओला जैसी कंपनियों को पर्यटक परमिट की किस निति के तहत अनुमति दी जा रही है इस पर मुंबई हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार से जबाब माँगा है।

Photo: Dna India
Photo: Dna India

एसोसिएशन ऑफ रेडियो टैक्सीज ने एक याचिका दायर की थी जिसमे ओला और उबेर जैसी वेबसाइट और ऐप आधारित टेक्सी कंपनियों पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने की मांग की गई थी। याचिका पर सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति एससी धर्माधिकारी और न्यायमूर्ति कोलाबावाला की खंडपीठ ने इस पर सरकार से जबाब माँगा है।

Also Read:  GDP का ढाई फीसदी स्वास्थ्य क्षेत्र पर खर्च करेगी मोदी सरकार

याचिका में कहा गया है कि ये कैब कंपनियां पर्यटक परमिट पर चल रही हैं, जबकि राज्य में दूसरी टैक्सियां इलेक्ट्रॉनिक मीटर पर चलती हैं। इसीलिए ओला और उबेर के किरायों को नियमित करने का कोई प्रावधान नहीं हैं। इस पर राज्य सरकार के वकील ने आज अदालत से कहा कि इस मुद्दे पर वे योजना तैयार करने पर विचार कर रहे है।

Also Read:  आज किंगफिशर एयरलाइंस की दो संपत्तियों की नीलामी

NDTV की खबर के अनुसार, न्यायमूर्ति धर्माधिकारी ने कहा,”ये उबेर और ओला कैब,टैक्सी स्टैंड पर नहीं रूकती, इस पर अनुमति नहीं है, वे आपके नियमों का पालन नहीं करतीं। आपको (सरकार) इस पर विस्तार से जानकारी देने की है।इन कैब सेवाओं पर निगरानी रखने की कोई व्यवस्था नहीं है। ये सब कब शुरू हुआ? आपने सड़कों पर केवल कारों की भीढ़ बढ़ा दी है, जिससे सडको पर अफरा..तफरी है।”

Also Read:  CBSE की किताबों में पढ़ाया जा रहा है, '36-24-36 फिगर वाली महिला होती हैं बेस्ट'

इस पर पीठ ने सरकार को निर्देश दिया कि वह हलफनामा दायर करे, जिसमें दिखाया गया कि किस नीति के तहत ऐसी कैब को चलने की अनुमति दी जाती है। इस पर अदालत ने सुनवाई की अगली तारीख दो सितम्बर तय की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here