उत्तर प्रदेश: आगरा में व्यापारी से मारपीट के आरोप में दो सिपाही निलंबित

0

उत्तर प्रदेश के आगरा में स्थानीय व्यापारी का पीछा करने और उससे घर के बाहर मारपीट करने के आरोप के चलते दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। सीसीटीवी कैमरे में सिपाही, व्यापारी का पीछा करते हुए नजर आ रहे थे। व्यापारी अपने दोपहिया वाहन पर बिना हेलमेट और मास्क के घूम रहा था। यह घटना बुधवार को न्यू आगरा पुलिस सीमा के तहत कमला नगर में एक रिहायशी इलाके में हुई।

आगरा

घायल व्यापारी की पहचान राकेश गुप्ता (55) के रूप में की गई है, जबकि निलंबित पुलिसकर्मियों की पहचान चीता मोबाइल फोर्स के कॉन्सटेबल राकेश शर्मा और दिनेश के रूप में हुई है। लॉकडाउन के दौरान इन दोनों को लोगों की आवाजाही पर नजर रखने की ड्यूटी दी गई थी। वीडियो में पुलिस मोटर-बाइक पर दो कांस्टेबल, व्यापारी राकेश गुप्ता का उनके घर तक पीछा करते हुए दिखाई दिए और फिर उन पर अपने डंडे से मारने के लिए टूट पडे।

समाचार एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक आगरा के एसएसपी बबलू कुमार ने कहा, “इस तरह का व्यवहार स्वीकार्य नहीं है, दोनों पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है।”

पीड़ित के चचेरे छोटे भाई डॉ. संजय गुप्ता न्यूरोलॉजिस्ट हैं। उन्होंने कहा, “राकेश गुप्ता नाश्ते के लिए ब्रेड खरीदने पास की किराने की दुकान पर गए थे। जब उन्होंने चेक-पॉइंट पर पुलिस को देखा, तब तक उन्होंने अपने दोपहिया वाहन पर केवल 50 मीटर की यात्रा की थी। पुलिसकर्मियों को देखकर उन्होंने यू-टर्न लिया, इससे पुलिसकर्मियों को गुस्सा आ गया और उन्होंने उसका घर तक पीछा किया।” डॉक्टर संजय ने कहा, “जैसे ही राकेश गुप्ता घर के दरवाजे पर पहुंचे, उनके पीछे वाले पुलिसवाले मोटर-बाइक से जा पहुंचे और नियम का उल्लंघन के लिए उनसे सवाल किए बिना ही उन पर लाठियां बरसाने लगे।”

न्यू आगरा के स्टेशन हाउस अधिकारी उमेश चंद्र त्रिपाठी ने कहा, “राकेश गुप्ता का घर 50 मीटर की दूरी पर नहीं है, बल्कि जहां पुलिसकर्मी ड्यूटी पर थे, उससे बहुत दूर है। पुलिसकर्मियों को देखकर उन्होंने एक चोर की तरह भागने का प्रयास किया। जब कांस्टेबल राकेश शर्मा ने उन्हें रोकने की कोशिश की और पीछे से उनकी दोपहिया वाहन के धातु के हैंडल को पकड़ा। राकेश ने उसे अपने दोपहिया वाहन के साथ कम से कम 25 मीटर तक खींचा।”

एसएचओ ने आगे कहा, “जब वे उसका पीछा कर रह थे तक राकेश गुप्ता और पुलिस के बीच आपत्तिजनक गाली-गलौज भी हुई। राकेश ने एक चोर की तरह काम किया और वह आवासीय इलाके की गलियों में दो पुलिसकर्मियों द्वारा पकड़ा गया।” आगरा के एसपी सिटी रोहन बोत्रे को घटना की जांच करने और अपनी रिपोर्ट एसएसपी को सौंपने के लिए कहा गया है। इस बीच, स्थानीय व्यापारी संघ ने राकेश गुप्ता के मेडिकल परीक्षण और दोनों कांस्टेबल के खिलाफ एफआईआर की मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here