आरके नगर उपचुनाव में शशिकला के भतीजे दिनाकरन 40 हजार से ज्यादा वोटों से जीते

0

तमिलनाडु की पूर्व मुख्‍यमंत्री जे. जयललिता के निधन से खाली हुई चेन्‍नई की बहुचर्चित आरके नगर विधानसभा सीट उपचुनाव की मतगणना समाप्त हो गई है। इस सीट पर शशिकला के भतीजे और निर्दलीय उम्‍मीदवार टीटीवी दिनाकरण ने बड़ी जीत दर्ज की है। दिवंगत मुख्यमंत्री जे जयललिता की सीट रहे इस निर्वाचन क्षेत्र से दिनाकरण ने अन्नाद्रमुक के उम्मीदवार मधुसूदनन को करीब 40 हजार मतों के अंतर से हराया है।

Photo: Indian Express

ताजा आंकड़ों के मुताबिक दिनाकरन को 89,013 (50.32%) वोट मिले, जबकि उनके प्रतिद्वंदी AIADMK के उम्मीदवार मधुसूदनन को 48306 (27.30%) मतों से ही संतोष करना पड़ा। वहीं, तीसरे नंबर पर रहे DMK उम्मीदवार के खाते में 24,651 (14%) वोट ही आए। वहीं NOTA के लिए 2,373 लोगों ने वोट किया, जबकि बीजेपी उम्मीदवार को मात्र 1417(0.80%) वोट मिले।

रविवार सुबह से ही मतगणना के रुझानों में दिनाकरण को मिल रही बढ़त के बाद समर्थकों में उत्साह देखा जा रहा था। सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक के लिए यह उपचुनाव अग्निपरीक्षा जैसा था, क्योंकि जयललिता के निधन के बाद यह पहला चुनाव था। इस सीट पर रिकॉर्ड 77. 68 प्रतिशत मतदान हुआ था। अन्नाद्रमुक सुप्रीमो जे जयललिता के पिछले साल दिसंबर में निधन के बाद यह सीट खाली होने के कारण यह उपचुनाव कराया गया है।

इस उपचुनाव में सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक के ई मधुसूदनन, मुख्य विपक्षी दल द्रमुक के एन मरूथु गणेश और निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़े अन्नाद्रमुक से दरकिनार किये गये नेता टीटीवी दिनाकरण मुख्य प्रतिद्वंद्वी थे। दिनाकरण निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में मैदान में थे। इसके अलावा बीजेपी के के. नागराजन मैदान में थे। गौरतलब है कि साल 1999 के बाद से कोई भी सत्तारूढ़ दल ने उपचुनाव में हार का सामना नहीं किया है।

दिनाकरण ने मदुरै में कहा कि हम सच्चे अन्नाद्रमुक हैं, आर के नगर के लोगों ने अम्मा के उत्तराधिकारी का चुनाव किया है। उन्होंने मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी की अगुवाई वाली अन्नाद्रमुक सरकार पर प्रहार करते हुए कहा कि लोग सत्ता परिवर्तन चाहते हैं।

उन्होंने कहा कि हाल ही में तमिलनाडु के विभिन्न हिस्सों जैसे अविनाशी, अरुमनाई में मेरे दौरे के दौरान लोगों ने कहा कि प्रेशक कुकर (उनका चुनाव निशान) जीतेगा। वे सत्ता परिवर्तन चाहते हैं। दिनाकरण ने कहा कि पलानीस्वामी सरकार तीन महीने में गिर जाएगी। जयललिता 2015 के उपचुनाव और 2016 के विधानसभा चुनाव में आर के नगर से जीती थीं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here