त्रिपुरा के CM बिप्लब देब ने फिर दिया विवादित बयान, बोले- टैगोर ने अंग्रेजों के विरोध में लौटाया था नोबेल पुरस्कार

0

त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब अक्सर अपने बयानों को लेकर मीडिया की सुर्खियों में रहते हैं, उनके विवादित बयानों का सिलसिला खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। एक बार फिर उनका एक ताजा बयान चर्चा में है। मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने रवींद्रनाथ टैगोर की 154वीं जयंती पर कहा कि टैगोर ने अंग्रेज़ों के विरोध में अपना नोबेल पुरस्कार लौटा दिया था।

file Photo: @BjpBiplab (त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब )

एबीपी न्यूज़ के मुताबिक, बिप्लब देब ने अगरतला में रविंद्रनाथ टैगोर को श्रद्धांजलि देते हुए एक कार्यक्रम में कहा कि टैगोर ने ब्रिटिश सत्ता के विरोध में नोबेल पुरस्कार वापस कर दिया था। सच्चाई ये है कि नोबेल पुरस्कार से सम्मानित कवि, उपन्‍यासकार, नाटककार, चित्रकार, और दार्शनिक रविंद्रनाथ टैगोर ने जलियांवाला बाग कांड के खिलाफ ब्रिटिश सरकार का दिया नाइटहुड सम्मान वापस किया था न कि नोबेल।

बता दें कि, यह कोई पहली बार नहीं है कि जब बिप्लब देब अपने बायन की वजह से सुर्खियों में है। इससे पहले भी अपने बयानों से अपनी और पार्टी की फजीहत करवा चुके हैं।

मेरी सरकार में दखल देने वालों के नाखून उखाड़ लिए जाएंगे :

बता दें कि, इससे पहले एक कार्यक्रम में बोलते हुए बिप्लब देव ने कहा था कि, ‘बाजार में कोई सुबह 8 बजे तक ताजा लौकी लेकर आता है और 9 बजे तक उसमें इतना नाखून मार देते हैं कि वह बेचने के लायक नहीं होता। उसे गाय को खिलाना पड़ता है, नहीं तो घर वापस लेकर जाना पड़ता है। मेरी सरकार में ऐसा नहीं होना चाहिए कि कोई भी उसमें उंगली मार दे, नाखून लगा दे। जिन्होंने नाखून लगाया, उसका नाखून काट लेना चाहिए।’

‘पान की दुकान खोलें’

बिप्लब देब ने कहा, ‘युवा कई सालों तक राजनीतिक दलों के पीछे सरकारी नौकरी के लिए पड़े रहते हैं। वह अपने जीवन का महत्वपूर्ण समय यहां-वहां दौड़-भाग कर सरकारी नौकरी की तलाश में बर्बाद करते हैं। लेकिन अगर वही युवा सरकारी नौकरी तलाश करने के लिए राजनीतिक पार्टियों के पीछे भागने की बजाय पान की दुकान लगा ले तो उसके बैंक खाते में अब तक 5 लाख रुपए जमा होते।’

बिप्लब ने आगे कहा, ‘हर घर में गाय होनी चाहिए। यहां दूध 50 रुपए लीटर है, तो एक गाय लें, कोई ग्रेजुएट है, नौकरी के लिए घूमता रहता है 10 साल से, अगर 10 साल गाय पाल लेता तो अपने आप 10 लाख रुपए का बैंक बैलेंस तैयार हो जाता।’ बता दें कि रोजगार के मसले पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार विपक्ष और युवाओं के निशाने पर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रोजगार के मसले पर मुद्रा योजना की तारीफ की थी और पकौड़ा का जिक्र किया था।

‘सिविल सेवा में नहीं आएं मैकेनिकल इंजीनियर’

बता दें कि त्रिपुरा के सीएम बिप्लब कुमार देब अपने बयानों को लेकर लगातार मीडिया में छाये हुए हैं। एक के बाद एक वह ऐसे अजीबोगरीब बयान दे रहे हैं, जिसकी वजह से सोशल मीडिया में भी काफी चर्चा में हैं। बिप्लव देव ने कहा है कि उनके विचार से सिविल सेवा के लिए मैकेनिकल इंजीनियरों की तुलना में सिविल इंजीनियर ज्यादा उपयुक्त हैं।

प्रजना भवन में एक दिन पहले शुक्रवार (26 अप्रैल) को मुख्यमंत्री ने कहा था, ‘मैकेनिकल इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि वाले सिविल सेवा का चुनाव नहीं करें। समाज को तैयार करना है। सिविल इंजीनियरों के पास इसका ज्ञान है। प्रशासन में शामिल लोगों को समाज को तैयार करना होता है।’

देव ने कहा था कि पूर्व में कला स्नातक सिविल सेवा परीक्षा में शामिल होते थे। और अब मेडिकल और इंजीनियरिंग स्नातक सिविल सेवा में भी आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि सिविल सेवा अधिकारी को आल राउंडर होना चाहिए क्योंकि सभी क्षेत्रों का ज्ञान रखने वाले लोगों की सबसे ज्यादा मांग है।

डायना हेडन से जुड़ी टिप्पणी के लिए मांगी माफी

इससे पहले बिप्लब कुमार देब को डायना हेडन को 1997 में मिस वर्ल्ड खिताब जीतने पर सवाल उठाने और अंतरराष्ट्रीय सौंदर्य प्रतियोगिताओं को छलावा बताने से जुड़ी अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगनी पड़ी। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं राज्य के हैंडीक्राफ्ट्स के बेहतर मार्केटिंग के तरीके को लेकर बात कर रहा था। अगर किसी को बुरा लगा या उसे अपमानित महसूस हुआ तो मैं उसके लिए खेद जताता हूं। मैं सभी महिलाओं का अपनी मां की तरह सम्मान करता हूं।’

दरअसल, देब ने कहा था, ‘जिसने भी अंतरराष्ट्रीय सौंदर्य प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया, जीतकर लौटा। लगातार पांच सालों तक, हमने मिस वर्ल्ड/मिस यूनिवर्स के ताज जीते। डायना हेडन भी जीत गयीं। क्या आपको लगता है कि उन्हें ताज जीतना चाहिए था? इसके उलट उन्होंने ऐश्वर्या की तारीफ करते हुए कहा था कि वह ‘सच में भारतीय महिलाओं का प्रतिनिधित्व करती हैं।

इस टिप्पणी के लिए सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री की जमकर आलोचना हुई। वहीं डायना हेडन ने अपनी जीत पर सवाल करने के लिए त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लव कुमार देब की आलोचना करते हुए कहा था, ‘आहत करने वाला है और गेहुंए रंग को लेकर भारतीयों की सोच का पता चलता है जबकि उन्हें इसपर गर्व होना चाहिए।

डायना ने आगे कहा कि उन्हें पता है कि मुख्यमंत्री ने उनकी तुलना ऐश्वर्या से क्यों की और पूर्व मिस वर्ल्ड प्रियंका चोपड़ा या मौजूदा मिस वर्ल्ड मानुषी छिल्लर से क्यों नहीं की। यह साफ है कि उन्होंने हमारे रंग में अंतर होने की वजह से मेरी तुलना ऐश (ऐश्वर्या) से की और प्रियंका या मौजूदा मिस वर्ल्ड मानुषी से नहीं की। उन्हें शर्म आनी चाहिए क्योंकि हमारा खूबसूरत गेहुंआ रंग हमारे लिए गर्व का विषय है।

‘इंटरनेट का आविष्कार महाभारत काल में हुआ था’

बिप्लब कुमार देव ने पिछले दिनों दावा किया था कि इंटरनेट और सैटेलाइट आज की नई तकनीक नहीं है बल्कि यह महाभारत काल के जमाने से अस्तित्व में है। अगरतला में प्रगना भवन में कंप्यूटराइजेशन और सुधार पर आयोजित एक क्षेत्रीय वर्कशॉप को संबोधित करते हुए त्रिपुरा सीएम देब ने कहा था कि इंटरनेट लाखों साल पहले भारत के द्वारा आविष्कार किया गया था।

बिप्लब देव ने कहा, “ये देश वो देश है, जहां महाभारत में संजय ने बैठकर धृतराष्ट्र को युद्ध में क्या हो रहा था, बता रहे थे। इसका मतलब क्या है? उस जमाने में टेक्नोलॉजी थी, इंटरनेट था, सैटेलाइट थी, संजय के आंख से कैसे देख सकता है वो।” त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने कहा था कि पश्चिम देशों ने नहीं, बल्कि भारत ने इंटरनेट का आविष्कार किया है।

उन्होंने कहा, “इसका मतलब ये है कि उस समय तकनीक थी। बीच में क्या हुआ, नहीं हुआ, बहुत कुछ बदला पर उस जमाने में इस देश में टेक्नोलॉजी थी। यह काम आप लोगों ने पहले नहीं किया, इस देश में लाखों साल पहले यह अविष्कार हो चुका था।” मुख्यमंत्री के इस बयान का सोशल मीडिया पर जमकर मजाक बनाया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here