VIDEO: योगी राज में भी नहीं लग रही अपराधों पर लगाम, सीतापुर में ट्रिपल मर्डर, कारोबारी सहित परिवार के 3 लोगों की हत्या

0

उत्तर प्रदेश में नई सरकार बनते ही लोगों में नई उम्मीद जगी थी। मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही योगी आदित्यनाथ के तेवर देख कर लोगों को लगा था कि अब तो अपराधियों के दिन लद गए। खुद सीएम योगी ने भी एलान किया था कि अपराधी राज्य को छोड़कर चले जाएं, अब यूपी में उनकी खैर नहीं है। लेकिन हर रोज हो रहे वारदात ने सारी उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। अखिलेश राज की तरह योगी राज में भी बेखौफ अपराधी ताबड़तोड़ वारदातों को अंजाम दे रहे हैं।

NDTV

ताजा मामला यूपी के सीतापुर का है, जहां मंगलवार(6 जून) को देर शाम बदमाशों ने एक कारोबारी, उसकी पत्नी और बेटे की सरेआम गोली मारकर हत्या कर दी। जिसके बाद शहर में हड़कंप मच गया। खास बात यह है सीतापुर में कोतवाली से मजह 400 मीटर दूरी पर इस ट्रिपल मर्डर को अंजाम दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक सीतापुर के सिविल लाइन्स इलाके में रहने वाले प्रतिष्ठित दाल व्यवसायी 60 वर्षीय सुनील जायसवाल मंगलवार रात करीब 9.30 बजे राजा बाजार स्थित अपनी दुकान को बंद करके रुपयों से भरा एक बैग लेकर अपने घर पहुंचे थे। तभी दो बाइकों पर सवार करीब आधा दर्जन हथियारबंद बदमाशों ने लूट करने के इरादे से उन पर हमला कर दिया और उनसे रुपयों से भरा बैग छीनने लगे।

अपराधियों और जायसवाल के बीच झड़प होने लगी तभी बदमाशों ने उनपर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। इस दौरान फायरिंग की आवाज सुनकर सुनील की पत्नि और उनका बेटा ऋतिक भी घर से निकल आए। लेकिन अपराधियों ने उन्हें भी गोलियों से छलनी कर दिया।

सुनील जायसवाल और पत्नी की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि उनके बेटे ऋतिक फौरन नजदीकी अस्पताल में ले जाया गया, जहां उसने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इतना ही नहीं बीच-बचाव के लिए एक पड़ोसी पहुंचा तो बदमाशों ने उसे भी गोली मार दी, लेकिन उसकी जान बच गई और उसने पुलिस को इस वारदात की जानकारी दी।

जानकारी मिलते ही देर रात में ही लखनऊ से आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं, लेकिन अपराधियों का अब तक कोई सुराग नहीं है। पुलिस का दावा है कि जल्दी ही आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी। बता दें कि योगी सरकार बनने के बाद इस तरह की घटनाओं की बाढ़ आ गई है।

योगी राज में बढ़ा अपराध

आजतक की एक रिपोर्ट के मुताबित, राज्य सरकार के आंकड़े बताते हैं कि नई सरकार के बनने के बाद महज डेढ़ महीने में पिछले 2 वर्षों की तुलना में अपराधों में 27 फीसदी का इजाफा हुआ है। सबसे ज्यादा बढ़ोतरी लूट और रेप की घटनाओं में हुई है। ये आंकड़े 16 मार्च से 30 अप्रैल के बीच के हैं।

इस पर गौर करें तो 2016 में डकैती की घटनाएं 27 थी, जबकि 2017 में 47 हो गई. 2016 में रेप के 440 केस दर्ज हुए, तो 2017 में 603 केस दर्ज हुए हैं. कुल अपराध की बात करें तो 2016 में कुल 32954 केस दर्ज हुए, 2017 में 42444 केस सामने आए।

(देखें वीडियो)

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here